सांसद तो पहुंचे, पर पुजारी रहे नदारद, नहीं हो पाई पूजा

बर्दवान: बर्दवान-दुर्गापुर लोकसभा क्षेत्र से भाजपा सांसद एस.एस. अहलूवालिया शुक्रवार को बर्दवान शहर के कंचन नगर स्थित कंकालेश्वरी काली मंदिर में पहुंचे तो थे पूजा करने, लेकिन मंदिर में ताला लगे होने के कारण वे बिफर पड़े। मंदिर में ताला लगाए जाने पर उन्होंने कड़ी नाराजगी जताते हुए मंदिर के गेट पर ही खड़े होकर पूजा-अर्चना की। जानकारी के अनुसार, सांसद एस.एस. अहलूवालिया गांधी संकल्प यात्रा पर निकले थे। उनके साथ भाजपा के जिला अध्यक्ष संदीप नंदी समेत बड़ी संख्या में पार्टी के कार्यकर्ता भी गांधी संकल्प यात्रा में शामिल हुए थे। यह यात्रा जब कंचन नगर इलाके में पहुंची तो सांसद कंकालेश्वरी काली मंदिर में पूजा करने गए। लेकिन मंदिर बंद देखकर वे नाराज हो गए। गेट पर खड़े होकर ही उन्होंने मां कंकालेश्वरी को फूलों की माला चढ़ायी एवं अगरबत्ती जलायी। सांसद ने कहा कि जब वे मंदिर पहुंचे तो गेट पर ताला लगा हुआ देखकर आश्चर्यचकित रह गए। मंदिर में पूजा-अर्चना करने के बारे में पहले से ही पुरोहित को जानकारी दे दी गयी थी और वह फूलों की माला तथा डाला सजाकर पूरी तैयारी के साथ पूजा करने आए थे। लेकिन मंदिर में पुजारी का भी कहीं कोई अता-पता नहीं था। सांसद ने इस घटना की तुलना मुगल शासन से करते हुए कहा कि मुगलों के जमाने में किसी भी हिन्दू को मंदिरों में पूजा करने की इजाजत नहीं दी जाती थी। तृणमूल के राज में भी ऐसा ही हो रहा है। सांसद ने कहा कि फिर से इस मंदिर में पूजा करने आएंगे और अगर इस बार मंदिर बंद रहा तो मंदिर खुलवाया जाएगा। यहां बता देना जरूरी है कि कंचन नगर इलाका तृणमूल के प्रभावशाली नेता खोखन दास का गढ़ माना जाता है। इसलिए सांसद के मंदिर में पूजा के लिए पहुंचने से ठीक पहले गेट में ताला लगाए जाने एवं पुजारी के मौजूद नहीं होने की घटना को भाजपा नेताओं ने तृणमूल की साजिश करार दिया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

diabetes-day-image

ऐसी जीवनशैली अपनाएंगे तो नहीं होगी डायबिटीज

मधुमेह के लक्षण, इलाज और घरेलू उपचार हमारी बिगड़ती जीवनशैली के कारण हमारा शरीर कई बीमारियों का घर बन गया है। इन्हीं बीमारियों में से एक आगे पढ़ें »

डेहरी ऑन सोन : बोलेरो और गैस टैंकर की टक्कर में दो की मौत, पांच गंभीर

डेहरी ऑन सोन : बिहार में रोहतास जिले के डेहरी के अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी संजय कुमार ने बुधवार को यहां बताया कि स्थानीय सूअरा मोड़ आगे पढ़ें »

ऊपर