संदेशखाली हत्याकांड से राज्य की राजनीति उबाल पर

अमित शाह ने मांगी रिपोर्ट, आज राज्यपाल मिलेंगे पीएम से
केन्द्र सरकारी की ओर से हो सकती है बड़ी कार्रवाई
आज राज्य भर में भाजपा का काला दिवस, बशीरहाट बंद का आह्वान
12 को लालबाजार तक धिक्कार रैली
सन्मार्ग संवाददाता

कोलकाताः संदेशखाली में हुई राजनीतिक संघर्ष की घटना ने राज्य की राजनीति को उबाल पर ला दिया है। रविवार को दो भाजपा समर्थकों तथा एक तृणमूल कांग्रेस समर्थक के शव की पहचान हुई। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ग्राउंड रिपोर्ट मांगी है। वहीं राज्यपाल केशरी नाथ त्रिपाठी आज यानी सोमवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलेंगे। प्रधानमंत्री से राज्यपाल का मिलना राजनीतिक गलियारे में चर्चा का विषय बना हुआ है, हालांकि यह पूर्व निर्धारित बैठक है लेकिन इस बीच इतनी बड़ी घटना के होने के बाद यह कयास लगाया जा रहा है कि केन्द्र सरकार चुप नहीं बैठेगी। राजनीतिक गलियारे में आशंका जातायी जा रही है कि केन्द्र सरकार कोई बड़ी कार्रवाई की सोच रही है। भाजपा की ओर से आज यानी सोमवार को राज्य भर में काला दिवस तथा बशीरहाट बंद का आह्वान किया गया है। इसके साथ ही 12 जून को वेलिंग्टन से लालबाजार तक धिक्कार रैली निकाली जायेगी।
इसबीच दो शवों को लेकर भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष व सांसद लॉकेट चटर्जी जब कोलकाता की आ रहे थे तो पहले उन्हें मालंचा के पास रोका गया तथा इसके बाद फिर मिनाखां के निकट। यहां पुलिस वाहनों को सड़क पर ऐसे रखा गया था ताकि कोई भी वाहन वहां से गुजर नहीं सके। यहां पुलिस के साथ भाजपा नेताओं की कहा सुनी भी हुई। भाजपा नेताओं का कहना था कि पुलिस या प्रशासन यह ठीक नहीं कर सकता सकता है कि किसका शव दाह कहां होगा। मृतक के परिजन ठीक करेंगे कि कहां वे अंतिम संस्कार करना चाहते हैं। बाद में भाजपा नेता इस बात पर राजी हो गये कि दोनों शवों का संदेशखाली में ही अंतिम संस्कार किया जाये।
पश्चिम बंगाल बीजेपी के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने बताया, ‘केंद्रीय गृहमंत्री ने राज्य सरकार से मामले की एक रिपोर्ट मांगी है और मुझे पूरा भरोसा है कि केंद्र इस घटना को गंभीरता से लेगा। घटना के बाद लोगों में आक्रोश व्याप्त है।’ बता दें कि पार्टी के झंडे निकालकर फेंकने को लेकर दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच विवाद हो गया था। केंद्र सरकार ने लोकसभा चुनाव संपन्न होने के बाद भी पश्चिम बंगाल में जारी हिंसा पर ‘गहरी चिंता’ व्यक्त की है और राज्य सरकार को एक अडवाइजरी जारी की है। हालिया रिपोर्टों के मुताबिक, उत्तर 24 परगना के भंगिपारा, हाटगाचा में जून के बाद हुए संघर्ष में 4 लोग मारे गए हैं। गृह मंत्रालय ने पश्चिम बंगाल सरकार को यह सलाह दी है कि कानून-व्यवस्था और शांति बनाए रखने के लिए सभी आवश्यक उपाय सुनिश्चित किए जाएं। यह भी अनुरोध किया गया है कि अपने कर्तव्य के निर्वहन में लापरवाह पाए जाने वाले अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। भाजपा नेता मुकुल रॉय ने इस पर बयान देते हुए कहा कि तृणमूल नेताओं और कार्यकर्ताओं द्वारा संदेशखली में हमारे कार्यकर्ताओं पर हमला किया गया और हमारे 4 कार्यकर्ताओं की गोली मारकर हत्या कर दी गई। तृणमूल कांग्रेस के नेता और राज्य की मुख्यमंत्री आतंक में लिप्त हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कारों की खरीदारी के लिए मारुति सुजुकी ने आइसीआइसीआई बैंक के साथ साझेदारी की

नई दिल्ली : कोरोना महामारी के दौरान पैसे की किल्लत को देखते हुए कारों की बिक्री बढ़ाने के लिए मारुति सुजुकी ने आइसीआइसीआई बैंक के आगे पढ़ें »

घर में बैठकर बड़ी – बड़ी बातें, वे निगम क्यों नहीं आये : फिरहाद

कोलकाता : निगम के प्रशासक फिरहाद हकीम ने मंत्री साधन पांडेय पर जवाबी हमले में कहा कि घर पर बैठकर बड़ी - बड़ी बातें बोलना आगे पढ़ें »

ऊपर