सरस्वती पूजा पर साड़ी को लेकर बहन से हुए विवाद से क्षुब्ध छात्रा ने की आत्महत्या

मां की डांट के बाद दोनों बहन स्कूल भी गयी और पूजा देखकर घर वापस आयी
देर शाम हासी मंडल ने एक कमरे में जाकर गले में फंदा लगाकर की आत्महत्या
मालदहः सरस्वती पूजा के अवसर पर एक ही साड़ी पहनने को लेकर दो बहनों के बीच हुए विवाद से क्षुब्‍ध एक बहन ने गले में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। इंगलिशबाजार थानांतर्गत यदुपुर 2 पंचायत के गोपालपुर गांव में शनिवार देर रात इस घटना के बाद शोक का माहौल व्याप्त हो गया। परिवार और स्थानीय नागरिकों से प्राप्त सूचना के बाद पुलिस वहां आयी और नौवीं की छात्रा हासी मंडल (15) का शव फंदे से उतारकर पोस्टमार्टम के लिए मालदह मेडिकल कालेज भेज दिया।
पुलिस ने बताया कि पेशे से पानीपुरी (फुचका) विक्रेता निरंजन मंडल की दो जुड़वां बेटियां सहित पांच संतानें थीं। दो जुड़वां बहनों में हासी मंडल रविवार सुबह सरस्वती पूजा पर जिस साड़ी को पहनने की जिद कर रही थी उसकी दूसरी बहन भी उसे ही पहनना चाहती थी। इसे लेकर दोनों के बीच विवाद हो गया। इससे क्षुब्ध हासी मंडल अपने कमरे में गले में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। वह स्थानीय जोहरातला उच्च विद्यालय में पढ़ती थी। छात्रा की मां कानंदी मंडल ने बताया कि एक ही साड़ी को लेकर जब दोनों बहनों के बीच विवाद हुआ तो दोनों को डांट भी पड़ी और मैंने उन्‍हें नयी साड़ी खरीदने का आश्वासन भी दिया। दोपहर को दोनों स्कूल भी गयी और वहां पूजा देखकर घर आयी। शाम को उसकी मां साड़ी खरीदने बाजार गयी। उस वक्त दोनों घर में पढ़ाई कर रही थी। इसी वक्त हासी ने एक घर में ही सभी भाई बहनों को पढ़ने को कहकर दूसरे कमरे में चली गयी। रात 8 बजे उसका भाई काम से घर लौटा और एक कमरे को बंद देखकर उसे खोलने की कोशिश की लेकिन कमरा नहीं खुला। उसने खिड़की से जब अंदर झांका तब उसकी बहन अंदर फंदे से लटकते पायी गयी। उसे पुलिस की मदद से तुरंत उतार कर मालदह मेडिकल कालेज भेजा गया जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैच फीट के लिए चार चरण में अभ्यास करेंगे भारतीय क्रिकेटर : कोच श्रीधर

नयी दिल्ली : भारत के क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का कहना है कि देश के शीर्ष क्रिकेटरों के लिए चार चरण का अभ्यास कार्यक्रम तैयार आगे पढ़ें »

नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद करे आईसीसी : सैमी

नयी दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व टी-20 कप्तान डेरेन सैमी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और अन्य क्रिकेट बोर्डों से नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद आगे पढ़ें »

ऊपर