विजय दशमी पर क्षत्रिय समाज ने लगाया सेवा शिविर

कोलकाता : विजय दशमी को विभिन्न गंगा घाटों पर मां दुर्गा एवं अन्य देवी-देवताओं की प्रतिमाएं विसर्जित की गई। इस अवसर पर दर्शन के लिए रास्तों के दोनों किनारे श्रद्धालुओं की भीड़ जुटी रही। इसी बीच अखिल भारतीय क्षत्रिय समाज की तरफ से विसर्जन यात्रा में शामिल श्रद्धालुओं में शर्बत एवं पेयजल वितरित किया गया। इसके लिए 5,नीमतल्ला घाट स्ट्रीट इलाके में शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान समाज के सदस्यों ने श्रद्धालुओं को शर्बत एवं जल पिलाया। मौके पर समाज के अध्यक्ष शेखर सिंह, संरक्षक चंद्रिका बक्श सिंह, कृष्णा सिंह (मार्बल), श्रीप्रकाश सिंह, प्रभुनाथ सिंह, शिव कुमार सिंह, आरपी सिंह, अरुण कुमार सिंह, काशीनाथ सिंह (शिक्षक), अरविंद सिंह, अशोक कुमार तिवारी, भोला सोनकर, दामोदर सिंह, संजय सिंह, कमलेश सिंह, जीतेंद्र सिंह, उमेश सिंह, मुन्ना सिंह, परमेश्वर सिंह, गंगासागर शर्मा, राकेश सिंह, सुधीर सिंह, आनंद सिंह, अजय सिंह, अरुण सिंह (शिवपुर), पप्पू तिवारी, प्रेमचंद मिश्रा, शंभू सिंह, मुरली सिंह, सत्येंद्र सिंह, विंदेश्वरी सिंह, शिव कुमार सिंह, राजेश्वर सिंह, बसंत कुमार मिश्रा, विनोद कुमार सिंह, सुनील सिंह, अशोक सिंह, विलास सिंह, हीरालाल यादव, वीरेंद्र, देवी प्रसाद सिंहराय, गोराचंद्र सिंहराय, डॉ. मोहन सिंहराय, प्रभात सिंहराय, राजू सिंह, संतोष सिंह, पति राम सिंह, पवन सिंह, मणि भूषण सिंह, अंकित सिंह, राघवेंद्र सिंह, मयंत सिंह, कृत सिंह, राजेश कुमार सिंह, विमल सिंह सहित अन्य पदाधिकारी एवं सदस्य गण सक्रिय रहे। समाज के मुख्य संरक्षक जय प्रकाश सिंह एवं महासचिव शंकर बक्श सिंह ने बताया कि हर साल दशहरा के अवसर पर संस्था की ओर से विसर्जन यात्रा के दौरान शर्बत एवं पेयजल का वितरण किया जाता है। इसमें सभी सदस्यों की सराहनीय भूमिका रहती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैरी कॉम के खिलाफ ट्रायल मैच के लिए निकहत ने खेल मंत्री को पत्र लिखा

भारतीय मुक्केबाजी संघ बिना ट्रायल के मैरी कॉम को ओलिंपिक क्वॉलिफायर्स में भेजना चाहता है नयी दिल्ली : युवा बॉक्सर निकहत जरीन ने खेल मंत्री किरण आगे पढ़ें »

Twitter

ट्विटर ने कहा-विश्व के नेताओं के अकाउंट को नियमों से पूरी तरह छूट नहीं

सैनफ्रांसिस्को : ट्विटर ने कहा है कि विश्व के नेताओं को इसके उन प्रतिबंधों से पूरी तरह छूट नहीं है, जिसमें उपयोगकर्ता हिंसा की धमकी आगे पढ़ें »

ऊपर