राज्य सरकार ने गठित किया ग्लोबल एडवाइजरी बोर्ड

नोबेल विजेता अभिजीत विनायक बंद्योपाध्याय को दिया दायित्व
सन्मार्ग संवाददाता,कोलकाता : 21 दिनों का लॉकडाउन, उम्मीद लगायी जा रही है कि 14 अप्रैल के बाद खत्म कर दिया जाएगा। इसके बाद की स्थिति क्या होगी इस पर सभी मंथन करना शुरू कर दिए हैं। जानकार इस पर अगली रणनीति क्या हो सकती है इस पर विचार-विमर्श भी करने लगे हैं। इसी बीच सोमवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पोस्ट लॉकडाउन की रणनीति तैयार करने में एक बड़ी पहल की। ममता बनर्जी ने ग्लोबल एडवाइजरी बोर्ड गठन करने की घोषणा की, जिसमें नोबेल विजेता अभिजीत विनायक बंद्योपाध्याय को शामिल किया गया हैं। अभिजीत विनायक बंद्योपाध्याय के अलावा डब्ल्यूएचओ के पूर्व रीजनल डायरेक्टर डॉ. स्वरूप सरकार, डॉ. अभिजीत चौधरी और डॉ. सुकुमार मुखोपाध्याय हैं। ये सदस्य आगामी रणनी​ति को लेकर मुख्यमंत्री को सुझाव देंगे जिसपर सरकार काम करेगी।
पोस्ट लॉकडाउन की रणनीति
मुख्यमंत्री ने बताया कि अगले कुछ दिनों में इस कमेटी में और भी कुछ एक्सपर्ट्स को शामिल किया जाएगा। ममता बनर्जी ने संवाददाताओं को संबोधित करते हुए बताया कि अभी लॉकडाउन है और सब कुछ ठप पड़ा है। बाजार भी बंद है जिसके कारण कहीं से भी कोई रेवेन्यू नहीं आ रहा है। सरकार भी कुछ कर नहीं पा रही है। कोरोना एक महामारी है, जो कब तक खत्म होगी इस पर कुछ कहा नहीं जा सकता है। इस दौरान सिर्फ बंगाल ही नहीं पूरे देश की इकॉनोमी चरमरा गयी है, जो भविष्य में कब तक पटरी पर आएगी यह बताना मुश्किल है। ऐसे समय में भविष्य की रणनीति बनाने की जरूरत है और इसी​ के तहत राज्य सरकार ने बड़ी पहल करते हुए ग्लोबल एडवाइजरी बोर्ड फॉर कोविड रिस्पॉन्स पॉलिसी इन वेस्ट बंगाल का गठन किया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैच फीट के लिए चार चरण में अभ्यास करेंगे भारतीय क्रिकेटर : कोच श्रीधर

नयी दिल्ली : भारत के क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का कहना है कि देश के शीर्ष क्रिकेटरों के लिए चार चरण का अभ्यास कार्यक्रम तैयार आगे पढ़ें »

नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद करे आईसीसी : सैमी

नयी दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व टी-20 कप्तान डेरेन सैमी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और अन्य क्रिकेट बोर्डों से नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद आगे पढ़ें »

ऊपर