यथास्थिति बहाल होने तक भारत को सीमा पर एक इंच भी पीछे नहीं हटना चाहिए : अधीर

adhir

कोलकाता : लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने मंगलवार को कहा कि लद्दाख में चीनी सेना ने उन तर्कों को साबित कर दिया कि एलएसी के भारतीय हिस्से में घुसपैठ हुई। उन्होंने जोर दिया कि सीमा पर यथास्थिति बहाल होने तक ‘हम एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे।’ कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने इससे पहले कहा था कि मोदी सरकार को स्पष्ट बताना चाहिए कि क्या चीनी सेनाओं ने भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की।

भारतीय सेना की तरह चीनी सेना हिमालय पर्वत के दुर्गम

चौधरी ने एक ट्वीट में कहा, ‘भारतीय सेना की तरह चीनी सेना हिमालय पर्वत के दुर्गम, कठिन हालात और गलन भरे मौसम की आदी नहीं है। शायद इसी वजह से चीनी सेना पीछे हट गयी। इससे हमारे तर्क की फिर से पुष्टि हुई है कि हमारे क्षेत्र में भारी घुसपैठ हुई। ’ उन्होंने ट्वीट में कहा, ‘चूंकि उनके पास और कोई चारा नहीं है इसलिए वे कब्जे वाले दूसरे रणनीतिक क्षेत्र से भी पीछे जाना चाहेंगे। यथास्थिति बहाल होने तक हम एक इंच भी पीछे नहीं हटेंगे।’

पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले कुछ स्थानों से पीछे हटने लगी

पहली बार तनाव कम होने का संकेत तब मिला जब चीनी सेना सोमवार को पूर्वी लद्दाख में गतिरोध वाले कुछ स्थानों से पीछे हटने लगी। सरकारी सूत्रों ने बताया था कि इससे एक दिन पहले एनएसए अजित डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर ‘जल्द’ पीछे हटने को लेकर सहमति बनी थी। विदेश मंत्रालय ने सोमवार को कहा था कि चीनी विशेष प्रतिनिधि एवं विदेश मंत्री वांग ने भारतीय विशेष प्रतिनिधि और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार डोभाल से फोन पर बात की। पिछले दिनों गलवान घाटी में हिंसक टकराव में भारत के 20 सैन्यकर्मी शहीद हो गए थे। चीनी सेना को भी नुकसान हुआ लेकिन उसने हताहतों के बारे में कुछ नहीं बताया।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 2752 नये आये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 2752 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

राममंदिर के शिलान्यास के अवसर पर अपने घरों में दीपावाली मनाएं : रावत

देहरादून : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पांच अगस्त को अयोध्या में राममंदिर निर्माण हेतु भूमिपूजन के अवसर पर प्रदेश की जनता से आगे पढ़ें »

ऊपर