मंगलवार से माध्यमिक की परीक्षा, बैठेंगे 10 लाख से अधिक छात्र

Fallback Image

कोलकाता : मंगलवार से माध्यमिक की परीक्षाएं शुरू हो रही हैं। परीक्षाएं सुबह 11.45 बजे से शुरू होकर अपराह्न 3 बजे तक चलेंगी। इस बार कुल 2835 परीक्षा सेंटरों पर 10,64,980 परीक्षार्थी परीक्षा देंगे। इस वर्ष परीक्षार्थियों में छात्राओं की संख्या (6,03,311) छात्रों से (46,16,69) ज्यादा है। इसके अलावा कुल परीक्षर्थियों की संख्या में भी पिछले साल के मुकाबले ​गिरावट आयी है। सोमवार को मध्य शिक्षा पर्षद के सभापति कल्याणमय गांगुली ने संवाददाता सम्मेलन में कुल परीक्षार्थियों की संख्या में आयी गिरावट का कारण बर्थ रेट में गिरावट को बताया। कल्याणमय ने बताया कि इस वर्ष परीक्षा हाॅल में प्रश्न पत्रों को लेकर कड़ी सुरक्षा बरती जा रही है। पूरी प​रीक्षा की जिम्मेदारी राज्य सरकार द्वारा नियुक्त वेन्यू इंचार्ज पर होगी। प्रश्नपत्र सीधे परीक्षा हॉल में छात्रों के समक्ष ही खोले जाएंगे। परीक्षा हॉल तक प्रश्न पत्रों को पहुंचाने की जिम्मेदारी भी वेन्यू इंचार्ज, वेन्यू सुपवाइजर एवं एडिशनल वेन्यू सुपरवाइजर पर होगी। 11.45 तक किसी भी हाल में परीक्षार्थियों तक प्रश्नपत्र पहुंच जाएं, बोर्ड द्वारा यह भी ऑनलाइन माध्यम से ट्रैक कर सुनिश्चित किया जाएगा। इसके अलावा परीक्षा सेंटरों में परीक्षा चलने तक कोई भी शिक्षक व गैर शिक्षक कर्मी के मोबाइल फोन के व्यवहार पर सख्त मनाही है। बोर्ड द्वारा इस संदर्भ में सख्त हिदायत देते हुए कहा गया है कि शिक्षकों को परीक्षा शुरू होने से पहले अपने मोबाइल फोन एचएम (हेडमास्टर या हेडमिस्ट्रेस) को सौंपने होंगे। वह मोबाइल को एक लॉकर में रखेंगे जिसकी चाबी वेन्यू इंचार्ज के पास होगी। इसके अलावा किसी भी समस्या के लिए 22 फरवरी तक 24 घंटे कंट्रोल रूम की व्यवस्था बोर्ड द्वारा उपलब्ध है। कोई परेशानी होने पर विद्यार्थी 2359-3872, 2359-2278 पर कॉल एवं madhyamik.parikshya@gmail.com पर संपर्क कर सकते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

25 करोड़ की हेरोइन के साथ तस्कर गिरफ्तार

अभियुक्तों के पास से 5 किलो हेरोइन और कार जब्त कोलकाता : 25 करोड़ रुपये की हेरोइन के साथ कोलकाता पुलिस के एसटीएफ अधिकारियों ने एक आगे पढ़ें »

tmc

पहले यूपी की कानून व्यवस्था देखें, फिर बंगाल पर उंगली उठाएं – तृणमूल

हाथरस की घटना पर योगी को तृणमूल ने घेरा कोलकाता : बंगाल में चुनावी माहौल गरम है। भाजपा लगातार आक्रामक हो रही है, वहीं तृणमूल भी आगे पढ़ें »

ऊपर