महानगरः दुर्गानवमी पर मंडपों में की गयी मां सिद्धिदात्री की भव्य आरती और हवन

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : दुर्गानवमी पर मां दुर्गा के नवें स्वरूप मां सिद्धिदात्री की भक्तों ने आराधना की। सुबह से ही राज्यभर के पंडालों में मां की भव्य आरती की गयी। मां की वंदना में भक्त डूबे रहे। महानवमी पर कन्या पूजन और हवन भी किया गया। जगत मुखर्जी पार्क में मां दुर्गा की भव्य आरती की गयी। इस वर्ष यह पूजा अपना 85वां वर्ष मना रहा है। भारी संख्या में लोग सुबह से मंडप के बाहर देखे गये। हालांकि मंडप के भीतर जाने की अनुमति नहीं थी। बाहर से ही लोगों ने देवी के दर्शन किये। इधर,पंडालों में नवमी पर हवन भी गयी। पूरा माहौल खुशनुमा बना रहा। कांकुड़गाछी मिताली संघ के पूजा पंडाल में नवमी पर हवन किया गया। सभी ने एक ही प्रार्थना की कि कोरोना का प्रकोप खत्म हो जाये। अगले साल दुर्गापूजा में कोरोना नहीं हो। लोग अच्छे से घूम पाये। बंधु दल स्पाेर्टिंग क्लब के पूजा पंडाल में मंत्री शशि पांजा पहुंचीं। उन्होंने पूजा हवन में हिस्सा भी लिया। मंत्री ने कहा कि काफी सुंदर तरीके से यहां पूरी व्यवस्था की गयी है। हवन के समाप्त होने के बाद आरती की गयी और भोग लगाये गये।
कुमारी पूजा और संध्या आरती का विशेष महत्व
अष्टमी और नवमी पर होने वाली कुमारी पूजा का विशेष महत्व है। इस दौरान 10 साल से कम उम्र की कन्याओं को देवियों के प्रतिबिंब के रूप में कन्या पूजा की जाती है। इसके बाद ही भक्तों के नवरात्र व्रत सम्पन्न माना जाता है। वहीं संध्या आरती का खास महत्व है। संध्या आरती की रौनक, भव्यता का इतना महत्व है कि भक्त इसे देखने के लिए दूर-दूर से पंडालों तक पहुंचते है। हालांकि इस बार पंडालों के बाहर से लोगों संध्या आरती में शामिल हुए।

शेयर करें

मुख्य समाचार

राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन, ऐसे करें आवेदन

" हमारा सपना हर छात्र माने हिंदी को अपना" हर साल की तरह इस साल भी हम लेकर आये हैं राम अवतार गुप्त प्रोत्साहन। इस बार आगे पढ़ें »

त्रिपुरा में नगर निकाय चुनाव लड़ेगी तृणमूल

12 दिवसीय ‘त्रिपुरा के लिए तृणमूल’ कार्यक्रम सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : तृणमूल सांसद सुस्मिता देव ने गुरुवार को कहा कि तृणमूल कांग्रेस त्रिपुरा में आने वाले नगर आगे पढ़ें »

ऊपर