ममता बनर्जी की अपील के बाद कोरोना के खिलाफ लड़ाई में शैक्षणिक संस्थानों ने दिया दान

 

कोलकाता : कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से देशभर में लागू 21 दिन के लॉकडाउन के तहत दो दिन पहले समाज सेवा में निकली मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की अपील के बाद कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में शैक्षणिक संस्थान आर्थिक सहयोग देने के लिए आगे आयी है। कई मुख्य शिक्षण संस्थानों ने ‘पश्चिम बंगाल राज्य आपदा राहत कोष’ में मदद देने का संकल्प लिया है।

ये शैक्षणिक संस्थान आयी है आगे

मुख्यमंत्री बनर्जी ने 27 मार्च को राज्य और विदेश में रहने वाले लोगों और विभिन्न संगठनों से अपील की थी कि वे राहत कोष में योगदान दें। इसके बाद कलकत्ता विश्वविद्यालय, यादवपुर विश्वविद्यालय और सेंट जेवियर्स विश्वविद्यालय ने आर्थिक सहायता देने की पेशकश की है। सेंट जेवियर्स कॉलेज (स्वायत्त) कोलकाता भी मदद के लिए आगे आया है। कलकत्ता विश्वविद्यालय की कुलपति सोनाली चक्रबर्ती बनर्जी ने कहा कि वह प्रो वीसी और रजिस्ट्रार से इस राहत कोष में शीघ्र ही ‘पर्याप्त राशि’ देने के लिए चर्चा कर रही हैं। हालांकि चक्रबर्ती ने यह नहीं बताया कि कितनी राशि का योगदान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह कोष पूरी तरह से विश्वविद्यालय की तरफ से है। इसके अलावा छात्र, संकाय सदस्य और कर्मचारी भी अपनी मर्जी से योगदान कर सकते हैं। वहीं यादवपुर विश्वविद्यालय के कुलपति सुरंजन दास ने कहा कि विश्वविद्यालय ने शिक्षकों, अधिकारियों और कर्मचारियों से मुख्यमंत्री राहत कोष में योगदान की अपील की है। वहीं इसी तरह की प्रतिबद्धता सेंट जेवियर्स विश्वविद्यालय के कुलपति फादर फेलिक्स राज ने भी लिया है। उन्होंने बताया कि राशि जुटाने का काम शुरू हो गया है और प्रशासन को उम्मीद है कि वह जल्द ही संबंधित प्राधिकार के पास राशि भेज देंगे। वहीं, शांतिनिकेतन के केंद्रीय विश्वविद्यालय विश्व भारती के संकाय कर्मी और अन्य कर्मचारी भी मार्च महीने के एक दिन का वेतन प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में करेंगे।

 

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

जार्ज फ्लायड की मौत पर आईसीसी ने कहा, विविधता के बिना क्रिकेट कुछ नहीं

दुबई : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने शुक्रवार को कहा कि ‘क्रिकेट विविधता के बिना कुछ भी नहीं है।’ उसने यह बयान अफ्रीकी मूल के आगे पढ़ें »

टेस्ट मैच में लागू होगा कोरोना सब्स्टीट्यूट, जल्द मिलेगी आईसीसी की मंजूरी

विश्व पर्यावरण दिवस विशेष : तीन दशक से पर्यावरण-जंगल की रक्षा कर रहे रामगढ़ के वीरू महतो

स्थिति ठीक होने पर ही टूर्नामेंट्स हो, आज यूएस ओपन होता है तो मैं नहीं खेलूंगा : नडाल

ट्रेडिंग के आखिरी के घंटों में गंवाया लाभ, निफ्टी 0.32% और सेंसेक्स 128.84 अंक नीचे हुआ बंद

आईडब्ल्यूएफ से मुआवजे की मांग करेंगी भारोत्तोलक संजीता चानू

दर्शकों के बिना कैसे होगा विश्व कप, उचित समय का इंतजार करे आईसीसी : अकरम

बंगाल में तूफान से भी तेज हुई कोरोना मामलों की गति, अब तक के सबसे अधिक आए मामले

पश्चिम बंगाल में बेरोजगारी की दर देश की तुलना में कम: सीएमआईई आंकड़े

एसबीआई ने 2019-20 की चौथी तिमाही में 3,581 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया

ऊपर