ममता ने हाथ जोड़कर समझाया : अंतिम संस्कार करने दें

शव में कोरोना का वायरस नहीं रहता है
कोलकाता : पहले नीमतल्ला उसके बाद हावड़ा फिर धापा में कोरोना से मरे लोगों के शवों का अंतिम संस्कार करवाने में प्रशासन की कमर टूट गयी। कुछ जगह तो लाठीचार्ज तक की नौबत आ गयी। लोगों द्वारा घंटों तक प्रदर्शन करने के बाद जैसे-तैसे प्रशासन के दखल के बाद शवों का अंतिम संस्कार कराया गया। ऐसी परि​स्थितियों को देखते हुए मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शुक्रवार को हाथ जोड़कर लोगों से विनम्र निवेदन किया कि लोग कोरोना से मारे गये लोगों के शवों का अंतिम संस्कार करने दें। मरने के बाद शवों को रखा नहीं जाता है। यह परम्परा है कि शवों को जलाया जाए या दफनाया जाए। कोरोना के कारण मारे गये लोगों के शवों को जलाने से किसी तरह की परेशानी नहीं होती है। शव में कोरोना का वायरस नहीं रहता है, इस बात की जानकारी डब्ल्यूएचओ द्वारा जारी निर्देशिका में भी दी गयी है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

जार्ज फ्लायड की मौत पर आईसीसी ने कहा, विविधता के बिना क्रिकेट कुछ नहीं

दुबई : अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने शुक्रवार को कहा कि ‘क्रिकेट विविधता के बिना कुछ भी नहीं है।’ उसने यह बयान अफ्रीकी मूल के आगे पढ़ें »

टेस्ट मैच में लागू होगा कोरोना सब्स्टीट्यूट, जल्द मिलेगी आईसीसी की मंजूरी

विश्व पर्यावरण दिवस विशेष : तीन दशक से पर्यावरण-जंगल की रक्षा कर रहे रामगढ़ के वीरू महतो

स्थिति ठीक होने पर ही टूर्नामेंट्स हो, आज यूएस ओपन होता है तो मैं नहीं खेलूंगा : नडाल

ट्रेडिंग के आखिरी के घंटों में गंवाया लाभ, निफ्टी 0.32% और सेंसेक्स 128.84 अंक नीचे हुआ बंद

आईडब्ल्यूएफ से मुआवजे की मांग करेंगी भारोत्तोलक संजीता चानू

दर्शकों के बिना कैसे होगा विश्व कप, उचित समय का इंतजार करे आईसीसी : अकरम

बंगाल में तूफान से भी तेज हुई कोरोना मामलों की गति, अब तक के सबसे अधिक आए मामले

पश्चिम बंगाल में बेरोजगारी की दर देश की तुलना में कम: सीएमआईई आंकड़े

एसबीआई ने 2019-20 की चौथी तिमाही में 3,581 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया

ऊपर