ममता ने पीएम मोदी से कोयला क्षेत्र में 100 प्रतिशत विदेशी निवेश व राज्य से कोल इंडिया के मुख्यालय को हटाने का किया विरोध

कोलकाता : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखकर कोयला क्षेत्र में 100 प्रतिशत विदेशी निवेश और राज्य से कोल इंडिया के मुख्यालय को हटाने का विरोध किया है। मुख्यमंत्री का यह दावा कि कोयले का व्यावसायीकरण या 100 प्रतिशत विदेशी निवेश के अवसर प्रधानमंत्री के ‘स्व-विश्वनीय भारत’ के प्रस्ताव के विपरीत है। कोयला क्षेत्र भारत की विरासत और गौरवशाली संस्कृति का एक हिस्सा है। भारत, दुनिया का सबसे बड़ा कोयला उत्पादक और पूर्वी भारत में सबसे अधिक कोयला उत्पादन है। कोल इंडिया का कोयला उत्पादन पर 28000 करोड़ का लाभांश है।

31 हजार करोड़ रुपये मुनाफे में हिस्सेदारी 

मुनाफे में उनकी हिस्सेदारी 31 हजार करोड़ रुपये से अधिक है। परिणामस्वरूप, उस कोयला उत्पादन में व्यवसायीकरण या 100 प्रतिशत विदेशी निवेश देश के पूरे कोयला क्षेत्र को तबाही के कगार पर धकेल रहा है। उन्होंने प्रधानमंत्री को सूचित ​किया कि यह निर्णय राज्य के हित के खिलाफ है। उन्होंने यह भी सवाल उठाया कि कोरोना में देशव्यापी तालाबंदी के बीच कोल इंडिया के कर्मचारियों को कैसे स्थानांतरित किया जाएगा।

सौ से अधिक संविदा कर्मचारी खो देंगे नौकरी

उन्होंने यह भी कहा कि परिणामस्वरूप, कोल इंडिया से जुड़े सौ से अधिक संविदा कर्मचारी अपनी नौकरी खो देंगे। इसलिए, मुख्यमंत्री ने इस फैसले पर रोक लगाने की मांग की है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सेहत के लिए वरदान है सफेद कद्दू का जूस

आयरन की कमी की वजह से चेहरे का ग्लो खत्म हो रहा हो या बढ़ते वजन से हैं परेशान, सफेद कद्दू सेहत से जुड़ी आपकी आगे पढ़ें »

रात को किचन में रखें भरी पानी की बाल्टी और बाहर न रखें डस्टबिन फिर देखे कमाल

कोलकाता : रोजमर्रा की जिंदगी में कई छोटी-मोटी चीजें अपनाकर आप अपने घर में बरकत ला सकते हैं। वास्तु और ज्योतिष के हिसाब से अगर आगे पढ़ें »

ऊपर