ममता ने कहा : राज्यपाल भाजपा के हैं

कहा : उनके बयानों पर प्रतिक्रिया देना जरूरी नहीं समझती,
अयोध्या पर की शांति की अपील
जेईई में बाकी क्षेत्रीय भाषाओं के साथ भेदभाव का लगाया आरोप
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : राज्यपाल भाजपा के हैं, उनके किसी बयान पर प्रतिक्रिया देना मैं जरूरी नहीं समझती हूं। यह प्रतिक्रिया मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को तृणमूल भवन में संवाददाताओं के सवाल पर व्यक्त की। कभी कानून व्यवस्था को लेकर, तो कभी उपाचार्यों की कार्यशैली पर, तो कभी केंद्रीय योजनाओं को लेकर राज्य सरकार और राज्यपाल जगदीप धनखड़ के बीच टकराव देखा गया है। अब तक तृणमूल की ओर से राज्यपाल को भाजपा का मुखपत्र कहा जाता रहा है मगर पहली बार मुख्यमंत्री ने राज्यपाल पर प्रतिक्रिया दी।
अयोध्या मामले को लेकर संयम बरतें
इधर अयोध्या मामले को लेकर सीएम ममता बनर्जी ने राज्यवासियों से संयम बरतने की अपील की है। उन्होंने कहा कि सुनवाई में क्या होगा किसी काे नहीं पता, मगर पीएम नरेंद्र मोदी तक सभी से शांति बनाए रखने की अपील कर रहे हैं। इसलिए मैंने भी जनता से यह अपील की है कि वे सुनवाई पर उग्र न हों, इस विषय में जो भी कहना है सिर्फ मैं कहूंगी, पार्टी का कोई नेता इसमें अपनी प्रतिक्रिया नहीं देगा।
जेईई में सिर्फ गुजराती ही क्यों, बाकी भाषा क्यों नहीं ?
जेईई में हिन्दी, अंग्रेजी के अलावा गुजराती में प्रश्नपत्र की सुविधा पर सीएम ने बाकी क्षेत्रीय भाषाओं के साथ भेदभाव करने का आरोप लगाया। ऐसा करने से पहले उन्हें सभी राज्यों से राय लेनी चाहिए थी। उन्होंने कहा कि भारत ऐसा देश है जहां अलग-अलग भाषा, जाति, धर्म के लोग रहते हैं, मगर उनमें एकता है। जेईई मेंस में अगर गुजराती भाषा को मौका दिया गया है तो बाकी भाषाओं जैसे बांग्ला, असमिया, भोजपुरी, तमिल व अन्य में भी प्रश्नपत्र जारी करना चाहिए। लोकल भाषा में छात्रों को सहूलियत होती है। उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र द्वारा भेजी गयी चिट्ठी में गुजराती के साथ महाराष्ट्र का भी जिक्र किया गया था, मगर सिर्फ गुजराती को ही मौका मिला। इस फैसले पर सीएम ने दोबारा गौर करने के लिए कहा तथा यह भी कहा कि तृणमूल इसके प्रतिवाद में 11 नवंबर को राज्यभर में रैली निकालेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सन्मार्ग एक्सक्लूसिव :आर्थिक पैकेज से हर वर्ग को राहत, न अन्न की कमी, न धन की : ठाकुर

 विशेष संवाददाता, कोलकाता : कोविड-19 संकट के आघात से देश और देश की अर्थव्यवस्था को उबारने के लिए केंद्र सरकार हरसंभव कोशिश कर रही है। आगे पढ़ें »

फायदेमंद है संतुलित मात्रा में कार्बोहाइड्रेट का सेवन, अत्यधिक मात्रा पहुंचा सकता है नुकसान

नई दिल्ली : तंदुरुस्त शरीर और स्वस्थ दिमाग के लिए पौष्टिक आहार का सेवन जरूरी होता है। अन्य पोषक तत्वों की तरह कार्बोहाइड्रेट भी शरीर आगे पढ़ें »

भाजपा नेत्री सोनाली फोगाट ने मार्केट कमेटी के अफसर को मारा थप्पड़

javdekar

भारत जलवायु प्रतिबद्धताओं पर खरे उतरने वाले देशों में शामिल है: प्रकाश जावडेकर

मरकज मामले में सीबीआई जांच की जरूरत नहीं: केंद्र

trump

प्रदर्शनकारियों पर हमले के मामले में ट्रंप पर मुकदमा

लॉकडाउन के दौरान इंस्टाग्राम से कमाई करने वाले खिलाड़ियों की सूची में कोहली एकमात्र क्रिकेटर

केंद्र और राज्यों को प्रवासियों को उनके घर पहुंचाने के लिए 15 दिन और : सुप्रीम कोर्ट

गर्मियों में तरबूज खाने के हैं कई फायदें और नुकसान, पढ़ें

क्या छूने से कोरोना वायरस संक्रमण फैल सकता है : कोर्ट

इन किरदारों को निभाकर मुझे बहुत अनुभव मिलता है : पाओली दाम

ऊपर