भाजपा नेताओं की गिरफ्तारी के बाद तृणमूल समर्थक को मारी गोली

भाजपा ने आरोप से किया इनकार
सन्मार्ग संवाददाता
मिदनापुर : केशपुर के दो भाजपा नेताओं को शनिवार की रात को पुलिस ने एक पुराने मामले में गिरफ्तार कर लिया और इसके बाद ही केशपुर में एक तृणमूल कार्यकर्ता संजय सन्यायी को कुछ अनजान लोगों ने गोली मार दी। वह पार्टी का काम निपटा कर घर लौट रहा था तभी उस पर निशाना साधते हुए गोली चलायी गयी जो उसके पैर में लगी है। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। तृणमूल की तरफ से इस फायरिंग के लिए भाजपा को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है। इसे भाजपा नेताओं की गिरफ्तारी के मामले से जोड़ा जा रहा है। उधर, भाजपा नेताओं की गिरफ्तारी के बाद भाजपा की घाटाल सांगठनिक जिला सभापति अंतरा भट्टाचार्य सहित अन्य भाजपा नेता व कार्यकर्ता मिदनापुर शहर के कोतवाली थाने में पहुंच गए। भाजपा ने तृणमूल के इस आरोप से इनकार किया है। सूत्रों के अनुसार, केशपुर थाना इलाके के अंतर्गत आने वाले 11 नम्बर अंचल में रहने वाले दो भाजपा नेता तन्मय घोष और जाहांगीर अली को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। तन्मय घोष एक समय केशपुर के नामी माकपा नेता के रूप में जाने जाते थे और कुछ माह पहले ही भाजपा में शामिल हुए थे। उन्हें भाजपा नेता भारती घोष के साथ कई राजनीतिक कार्यक्रमाें में देखा गया है। अंतरा भट्टाचार्य ने आरोप लगाया है कि पुलिस भाजपा नेताओं को बिना किसी कारण के गिरफ्तार कर रही है। उन्होंने इसके खिलाफ आंदोलन शुरू करने की चेतावनी दी है। शनिवार की रात को भाजपा नेता तन्मय घोष की गिरफ्तारी के बाद उनके गांव सहित आसपास के गांवों में उत्तेजना फैल गयी। पश्चिम मिदनापुर जिला युवा तृणमूल के कार्यकारी सभापति निर्मल्य चक्रवर्ती ने आरोप लगाया है कि भाजपा के अभियुक्त नेता की गिरफ्तारी के कारण ही तृणमूल कार्यकर्ता पर गोली चलायी गयी है। अंतरा भट्टाचार्य ने कहा कि जिस गांव में गोली चली है वहां भाजपा का कोई कार्यकर्ता नहीं है। भाजपा कार्यकर्ता को फंसाने का प्रयास किया जा रहा है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Rain of currency

आधे घंटे तक हुई नोटों की बारिश, लूटने के लिए लोगों में होड़

कोलकाता : महानगर में डलहौजी इलाके के बेंटिक स्ट्रीट मेें बुधवार की दोपहर अचानक एक कमर्शियल बिल्डिंग से नोटों की बारिश होने लगी। दरअसल, हुआ आगे पढ़ें »

Hemant Biswa Sarma

असम सरकार ने मोदी सरकार से एनआरसी बिल रद्द करने अपील की

नई दिल्ली : असम सरकार ने केंद्र सरकार से हाल में जारी किए गए नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (एनआरसी) बिल को रद्द करने की अपील आगे पढ़ें »

ऊपर