भाजपा की अभिनंदन यात्रा को लेकर रणक्षेत्र बना गंगारामपुर

पुलिस और भाजपा कार्यकर्ताओं में जमकर संघर्ष, कई घायल

गंगारामपुर/कोलकाता : शनिवार को भाजपा की अभिनंदन यात्रा को लेकर दक्षिण दिनाजपुर जिले का गंगारामपुर रणक्षेत्र में तब्दील हो गया। विजय जुलूस को रोकने के क्रम में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष अड़ गये और पुलिस बैरिकेड तोड़कर आगे बढ़ने लगे। दोनों पक्षों के बीच जमकर हुए संघर्ष में 20 भाजपा समर्थकों सहित गंगारामपुर थाने के एक एएसआई विभू भट्टाचार्य के अलावा कई पुलिस कर्मी और सिविक वालेंटियर्स घायल हो गये। इधर, संघर्ष को रोकने और भीड़ को तितर बितर करने के लिए पुलिस ने पहले लाठीचार्ज किया और अश्रुगैस के गोले छोड़े। इसके बाद हालात और भयंकर हो उठे तथा वहां भाजपा के समर्थक पुलिस से हाथापायी करने लगे।
दिलीप घोष की अगुवाई में निकाले गये भाजपा के विजय जुलूस को रोकने की कोशिश में पुलिस सख्त रवैया अपना रही थी। दिलीप घोष आगे बढ़ रहे थे और पुलिस उन्हें किसी भी हालत में रोकने की कोशिश कर रही है। झमेले की शुरुआत यहीं से शुरू हुई। बुनियादपुर के बाद गंगारामपुर शहर में प्रवेश के दौरान ही हंगामा हो गया और पुलिस भाजपा समर्थकों से भिड़ गयी। दिलीप घोष जैसे ही गंगारामपुर में बैरिकेड तोड़कर आगे बढ़ने लगे तो पुलिस ने भाजपा समर्थकों पर लाठीचार्ज कर दिया। इसके जवाब में भाजपा समर्थकों ने भी ईंट और पत्थरों से पुलिस पर हमला कर दिया। देखते ही देखते पूरा गंगारामपुर रणक्षेत्र में तब्दील हो गया। करीब दो घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद पुलिस हालात को नियंत्रित कर सकी। रैली में शामिल प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व सांसद दिलीप घोष ने आरोप लगाया कि तृणमूल जुलूस की अनुमति नहीं दे रही है क्योंकि वह राज्य में भाजपा की बढ़त से डर गयी है। उन्होंने कहा, ‘बंगाल में हमें 18 सीटें और 40.5 फीसदी की बढ़त मिली है ​जिसके लिए हम जुलूस निकालकर लोगों को धन्यवाद देना चाहते हैं। हालांकि राज्य सरकार भाजपा से इतनी डर गयी है कि जुलूस निकालने की अनुमति तक नहीं दी जा रही है। हमें अनुमति नहीं मिली तो आगे और बड़ा आंदोलन किया जाएगा।’ इस मुद्दे पर तृणमूल के महासचिव और राज्य के मंत्री पार्थ चटर्जी ने कहा कि भाजपा बंगाल में शांतिपूर्ण माहौल को बिगाड़ने की कोशिश कर रही है। पार्थ चटर्जी ने कहा, ‘हमने भी 22 सीटें जीती है मगर हमने इस तरह का विजय जुलूस नहीं निकाला। तृणमूल राज्य में कानून – व्यवस्था को बिगाड़ना नहीं चाहती है।’ इधर, दक्षिण दिनाजपुर के पुलिस अधीक्षक प्रसून बनर्जी ने बताया कि भाजपा समर्थकों के हमले में कई पुलिस के वाहनों में तोड़फोड़ की गयी। एएसआई विभू भट्टाचार्य सहित अन्य घायल हो गये। बताया जाता है कि जिले में धारा 144 लागू होने के बावजूद जुलूस निकालना ही गैरकानूनी था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ऊपर