बड़ाबाजार में 15 लाख चुराने के आरोप में कर्मचारी सहित दो गिरफ्तार

 

कोलकाता :  बड़ाबाजार थानातंर्गत रूप चंद रॉय स्ट्रीट स्थित प्राइवेट कार्यालय से 15 लाख रुपये नकद चुराने के आरोप में पुलिस ने कर्मचारी सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया है। अभियुक्तों के नाम मृत्युंजय झा (23) और राहुल साव (24) है। दोनों हुगली के उत्तरपाड़ा के रहनेवाले हैं।  उनके निशानदेही पर चोरी गए रुपये रास बिहारी इलाके से बरामद किए गए।  पुलिस के अनुसार शनिवार की दोपहर प्लास्टिक व्यवसायी सुनील कुमार बैद ने शिकायत दर्ज करायी कि किसी ने उसके कार्यालय ने रखे 15 लाख रुपये से भरा ब्रीफकेस चुरा लिया है। उक्त रुपये उन्होंने अपनी पार्टी को पेमेंट देने के लिए वहां रखा था।

चोरी से पहले कार्यालय का सीसीटीवी कैमरा किया बंद

मामले की जांच के दौरान बड़ाबाजार थाने के एसआई निलाद्री शेखर दुबे, सिद्धार्थ राणा, सागर मुखर्जी और ऋषिकेश सिंह ने व्यवसायी के कार्यालय में लगे सीसीटीवी कैमरे को देखा तो उसे बंद पाया। इससे पुलिस को लगा कि किसी कर्मचारी ने ही रुपये चुराए हैं। मामले की जांच के दौरान जब पुलिस कर्मियों ने मृत्युंजय झा से पूछताछ की तो उसकी बातों में असंगतियां पाई गईं। इलाके में लगे सीसीटीवी कैमरे के फुटेज को खंगाला गया तो पुलिस ने पाया कि मृत्युंजय के साथ उसका एक साथी राहुल भी कार्यालय आया था। सख्ती से पूछताछ करने पर अभियुक्त ने अपना अपराध कबूल लिया।

पान की दुकान में छिपा रखे थे रुपये

मृत्युंजय ने बताया कि उसके मालिक की एक ही बिल्डिंग में दो आफिस हैं। ग्राउंड फ्लोर की ऑफिस में तीसरे तल्ले पर स्थित ऑफिस की भी चाबी रखी रहती है। उपरी तल्ले वाले कार्यालय में रुपये रखे हुए थे। योजना के तहत मृत्युंजय अपने दोस्त को लेकर कार्यालय में पहुंचा। उसने ग्राउंड फ्लोर से चाबी लेकर उपर के आफिस में गया  और सीसीटीवी कैमरे को बंद कर रुपये राहुल को दे दिया और फिर काम करने लगा। यही नहीं अभियुक्त ने रुपये को अपने पिता के पान की दुकान में छिपा रखा था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

क्यों कर रहे हैं कांग्रेस और समान विचारधारा वाले दल राज्यसभा के मानसून सत्र का बहिष्कार ?

कांग्रेस, डीएमके, तृणमूल कांग्रेस, आरजेडी, शिवसेना, लेफ्ट और आप राजनीतिक दलों ने तय किया कि वे राज्यसभा की मानसून सत्र का बहिष्कार करेंगे। बाद में आगे पढ़ें »

India Nepal kalapani map

भारतीय क्षेत्र को अपने संशोधित नक्शे में दर्शाने वाली विवादित किताबों का वितरण नेपाल ने रोका

काठमांडू: नेपाल ने उन नई किताबों का वितरण रोक दिया है जिसमें तीन रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण भारतीय क्षेत्रों को अपने भूभाग के रूप में आगे पढ़ें »

ऊपर