बाबुल द्वारा पोस्ट किये गये वीडियो पर खड़ा हुआ विवाद

कोलकाता : कोरोना वायरस संक्रमण की वजह से लागू लॉकडाउन के बीच केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो द्वारा सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए उस वीडियो से विवाद खड़ा हो गया है जिसमें कथित तौर पर एक मृत मरीज को एक राजकीय अस्पताल के पृथक वार्ड में दिखाया गया है। पश्चिम बंगाल सरकार ने इस वीडियो की सत्यता पर सवाल उठाया है और कहा है कि विपक्षी भाजपा फर्जी खबर फैलाने में ‘माहिर’ है। सुप्रियो ने वीडियो ट्विटर पर पोस्ट करके दावा किया कि यह सार्वजनिक है और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस से मामले की तत्काल जांच करने का आग्रह किया।

मुख्यमंत्री करायें पूरी जांच

पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन राज्य मंत्री ने ट्विटर पर लिखा, ‘‘यह एक चौंकाने वाला वीडियो है…चूंकि यह वीडियो सार्वजनिक है, इसलिए मैं पश्चिम बंगाल की माननीय मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से आग्रह करता हूं कि वह इसकी पूरी जांच करायें और तथ्य जारी करें।’ पश्चिम बंगाल के वरिष्ठ मंत्री एवं तृणमूल कांग्रेस महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा कि वीडियो की सत्यता का पता लगाने की जरूरत है और यदि सामग्री सही पाई जाती है तो प्रशासन उचित कदम उठाएगा। चटर्जी ने कहा, ‘हमें पहले जांचना होगा कि वीडियो सही है या नकली, जैसा कि हम सभी जानते हैं कि भाजपा फर्जी वीडियो फैलाने में माहिर है।’

अस्पतालों में मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर लगी रोक 

सुप्रियो ने एक अन्य ट्वीट में कहा कि अभी तक राज्य सरकार ने यह दावा नहीं किया है कि वीडियो फर्जी है, इससे ‘यह हमें विश्वास करने के करीब लाता है कि यह वास्तव में सही है।’ केंद्रीय मंत्री ने वीडियो के वायरल होने के बाद ममता बनर्जी की अगुवाई वाली सरकार से इन खबरों पर स्पष्टीकरण देने के लिए कहा कि वीडियो वायरल होने के बाद राज्य के अस्पतालों में मोबाइल फोन के इस्तेमाल पर रोक लगा दी गई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

चीन के बाद अब भारत भी 1.5 किमी पीछे हटा : अधिकारी

नयी दिल्ली : भारत-चीन के बढ़ते तनाव के बीच भारत और चीन के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकारों के बीच हुई बातचीत के बाद गलवान घाटी में आगे पढ़ें »

adhir

यथास्थिति बहाल होने तक भारत को सीमा पर एक इंच भी पीछे नहीं हटना चाहिए : अधीर

कोलकाता : लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीर रंजन चौधरी ने मंगलवार को कहा कि लद्दाख में चीनी सेना ने उन तर्कों को साबित कर आगे पढ़ें »

ऊपर