बड़ाबाजार में कोरोना की स्थितियां ऐसी रही तो हटाया जा सकता है मंडियों को

सन्मार्ग संवाददाता, कोलकाता : प्रशासनकि सूत्रों ने इस बात का संकेत दिया है कि बड़ाबाजार में कोरोना संक्रमण की स्थितियां ऐसी रही तो यहां से मंडियों को हटाया जा सकता है लेकिन सबसे बड़ा सवाल यह है कि मंडियों को कहां ले जाया जायेगा। यहां पूर्वी भारत की कई बड़ी मंडिया हैं, मसलन पोस्ता बाजार, फल मंडी, कपड़ों का बड़ा कारोबार आदि। सरकार जितना भी चाहे इन मंडियों को हटाना टेढ़ी खीर है। इधर, नगरपालिका मामलों के मंत्री फिरहाद हकीम ने कहा कि पिछले कुछ दिनों में कोलकाता में जिस तरह से कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़ी है वह बेहद ही चिंताजनक है। इनमें से बड़ाबाजार की हालत ने तो स्वास्थ विभाग को परेशानी में डाल रखा है। ऐसा पता चला है कि पिछले 2 – 3 दिनों में इस क्षेत्र में संक्रमण की संख्या बढ़ी है। फिरहाद हकीम ने कहा कि बड़ाबाजार में जिस तरह बाहर से बड़ी गाड़ियों में लोडिंग अनलोडिंग होती है, इससे संक्रमण फैलने की संभावना अधिक है। जहां भी घनी आबादी होगी वहां संक्रमण की संभावना भी अधिक होगी। बड़ाबाजार में लेबर एक साथ रहते हैं, एक ही खटिया पर सोते हैं। ऐसे में स्थिति तो चिंताजनक होगी ही। उल्लेखनीय है कि अभी हाल में ही प्रशासन की ओर से एक बैठक भी हुई थी। जिसमें यह पता लगाने की कोशिश की गयी थी कि अगर यहां से मोटिया मजदूरों को हटा दिया जाये तो बाजारों पर क्या असर पड़ेगा। इसका जवाब व्वयसाइयों ने यह दिया कि अगर मोटिया को हटा दिया गया तो बाजार बंद हो जायेंगे। अब देखना यह है कि सरकार इस पर क्या फैसला लेती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सेंसेक्स शुरुआती कारोबार में 300 अंक नीचे, बैंक, वित्त कंपनियों के शेयरों में गिरावट

मुंबई : वैश्वकि बाजारों में बिकवाली निकलने से बंबई शेयर बाजार (बीएसई) का सेंसेक्स भी मंगलवार को कारोबार के शुरुआती दौर में 300 अंक से आगे पढ़ें »

शिक्षक राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिये स्वयं को नामांकित करें: निशंक

नयी दिल्ली : केंद्रीय मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने मंगलवार को शिक्षकों से राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के लिये स्वयं को नामांकित करने और अपनी उपलब्धियों आगे पढ़ें »

ऊपर