बड़ाबाजार का कपड़ा मार्केट एक सप्ताह के लिए बंद

कोलकाता : कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए बड़ाबाजार के कपड़ा मार्केट को अगले एक सप्ताह के लिए बंद रखने का निर्णय लिया गया है। इसे लेकर शनिवार को ट्रेड को-ऑर्डिनेशन कमेटी की बैठक हुई थी, जिसमें चेम्बर ऑफ टेक्सटाइल, ट्रेड एण्ड इण्डस्ट्री के अध्यक्ष अरुण भुवालका और सेंट्रल कोलकाता मर्चेंट्स एसोसिएशन के अध्यक्ष ओम प्रकाश पोद्दार समेत अन्य व्यवसायी शामिल हुए। इस बारे में ओमप्रकाश पोद्दार ने बताया कि आगामी 29 जुलाई यानी बुधवार से लेकर 4 अगस्त यानी मंगलवार तक बड़ाबाजार का पूरा कपड़ा मार्केट बंद रहेगा। साथ ही उन्होंने कहा कि कोरोना से अपने परिवार, लोगों और व्यवसाय की रक्षा के लिए यह निर्णय लिया गया है। सभी व्यापारियों से इस दौरान मार्केट बंद रखने की अपील की गयी है। बड़ाबाजार में लगभग 50 ऐसे कटरे हैं जहां कपड़ों का व्यवसाय होता है। इनमें पारख कोठी, सदासुख कटरा, बांसतल्ला, केसोराम कटरा समेत अन्य कई कटरे शामिल हैं।
साप्ताहिक दूसरे लॉकडाउन के दिन 703 लोग गिरफ्तार
वहीं शनिवार को साप्ताहिक लॉकडाउन के दूसरे दिन महानगर के विभिन्न इलाकों से पुलिस ने 703 लोगों को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने नाका चेकिंग के दौरान 14 वाहनों को जब्त किया है। इसके अलावा महानगर के विभिन्न इलाकों में बिना मास्क के घूमने के आरोप में पुलिस ने 368 लोगों को गिरफ्तार किया है। इसके अलावा सार्वजनिक स्थल पर थूकने के आरोप में 11 लोगों पर कार्रवाई की गयी है। शनिवार की सुबह से महानगर के विभिन्न इलाकों में पुलिस की ओर से नाका चेकिंग चलायी गयी। साथ ही विभिन्न इलाकों निगरानी की गयी। हावड़ा ब्रिज से लेकर महानगर के महत्वपूर्ण क्रॉसिंग पर पुलिस ने हर गुजरने वाले लोगों की तलाशी ली और साथ ही उनके बाहर निकलने की वजह भी पूछी। यहां उल्लेखनीय है कि 24जुलाई की सुबह से रात तक पुलिस ने कुल 625 लोगों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने 65 वाहन जब्त किये हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पहले सीएम ने लगायी फटकार, फिर किया दुलार

पुरुलिया : मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जिले के हुटमुड़ा मैदान में एक विशाल जनसभा को संबोधित किया। उनके संबोधन के दौरान मुख्यमंत्री ममता बनर्जी का आगे पढ़ें »

धुपगुड़ी में दर्दनाक हादसा : डम्पर के नीचे दबकर 14 लोगों की मौत

सन्मार्ग संवाददाता, धुपगुड़ी/कोलकाता : मंगलवार की रात धुपगुड़ी में हुए दर्दनाक हादसे में कम से कम 14 लोगों की मौत हो गयी। पत्थर ढोने वाले आगे पढ़ें »

ऊपर