बंगाल में लॉकडाउन बढ़ा 31 जुलाई तक

कोलकाता : पश्चिम बंगाल सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए राज्य में लॉकडाउन को 31 जुलाई तक बढ़ाने का आदेश जारी किया।  बता दें कि स्वास्थ्य मंत्रालय की वेबसाइट पर उपलब्ध बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस के 4880 सक्रिय मामले हैं। राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण से अभी तक 591 लोगों की मौत हो चुकी है। राज्य में अभी तक कुल 15173 कोरोना वायरस संक्रमण से संक्रमित मरीज मिले हैं।

बंगाल के निजी और सरकारी अस्पतालों को चेतावनी

पश्चिम बंगाल के स्वास्थ्य विभाग ने निजी और सरकारी अस्पतालों को चेतावनी दी है कि यदि उन्होंने मरीजों को भर्ती करने से इनकार किया तो उनके विरूद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। विभाग द्वारा जारी आदेश में कहा गया है, ‘निजी अस्पतालों द्वारा भर्ती करने और सेवाएं देने से इनकार की घटनाएं सामने आयी हैं और मरीज इन अस्पतालों के इस लापरवाहीपूर्ण रवैये के चलते नुकसान उठाते हैं। इस तरह मरीजों को इंकार करना पश्चिम बंगाल क्लीनिकल एस्टैब्लिशमेंट (रजिस्ट्रेशन, रेगुलेशन एंड ट्रांसपेरेंसी) एक्ट, 2017 और पश्चिम बंगाल क्लीनिकल एस्टैब्लिशमेंट रूल्स, 2017 के तहत अपराध है।’

जरूरी अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी

उसमें कहा गया है, ‘यदि ऐसे अस्पताल के विरूद्ध भर्ती करने या सेवाओं से वंचित करने की कोई रिपोर्ट मिलती है तो उसके विरूद्ध जरूरी दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी जिसके तहत लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है।’ एक अन्य आदेश में विभाग ने कहा, ‘यदि किसी सरकारी अस्पताल के खिलाफ जरूरतमंद मरीज को भर्ती नहीं करने या उसे सेवा नहीं देने की रिपोर्ट मिलती है तो संबंधित अधिकारी के विरूद्ध सेवा नियमावली के मुताबिक जरूरी अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी।’ कोविड-19 को वैश्विक महामारी घोषित किये जाने के बाद राज्य सरकार ने 16 मार्च को पश्चिम बंगाल महामारी रोग, कोविड-19 विनियमन, 2020 लागू कर दिया था।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में तीसरे दिन भी कोरोना के 800 से ज्यादा मामले, 25 की हुई मौत

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस संक्रमण के 850 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

कोरोना की वजह से 9वीं-12वीं के पाठ्यक्रम 30 फीसदी घटे

नयी दिल्ली : कोविड-19 के बढ़ते मामलों के बीच स्कूलों के ना खुल पाने के कारण शिक्षा व्यवस्था पर असर और कक्षाओं के समय में आगे पढ़ें »

ऊपर