बंगाल के जिलों में केंद्रीय टीम चक्रवात से तबाह सर्वेक्षण करेंगी

कोलकाता : अंतर-मंत्रालयीय केंद्रीय टीम (आईएमसीटी) चक्रवात अम्फान से तबाह हुए जिलों का सर्वेक्षण करने के लिए गुरुवार शाम को पश्चिम बंगाल पहुंचेगी। राज्य सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय में संयुक्त सचिव (साइबर एवं सूचना सुरक्षा) अनुज शर्मा की अगुवाई वाली सात सदस्यीय टीम नुकसान का आकलन करने के लिए सबसे बुरी तरह से प्रभावित उत्तर और दक्षिण 24 परगना जिलों में सर्वेक्षण करेगी। आईएएस अधिकारी ने गुरुवार को बताया, ‘ टीम के सदस्य शुक्रवार को सर्वेक्षण करने के लिए दो समूहों में विभाजित होंगे। वे हवाई सर्वेक्षण कर सकते हैं या जमीनी हालात का मूल्यांकन कर सकते हैं। चूंकि उनके पास सर्वेक्षण के लिए सिर्फ एक ही दिन है तो वे हवाई सर्वेक्षण कर सकते हैं।’
तीन जगह पर करेंगे सर्वेक्षण
उन्होंने बताया कि कार्यक्रम के मुताबिक, आईएमसीटी के सदस्य दक्षिण 24 परगना जिले में पठार प्रतिमा और नामखाना और उत्तर 24 परगना जिले में हिंगलाज और बशीरहाट में सर्वेक्षण करेंगे। अधिकारी ने बताया, ‘ पूर्वी मिदनापुर जिले के मामूली रूप से प्रभावित इलाके के दौरे पर नहीं जाएंगे।’ उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने चक्रवात अम्फान से आठ जिलों में हुए नुकसान पर अपनी रिपोर्ट तैयार कर ली है।
मुख्य सचिव समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से मिलेंगे
अधिकारी ने बताया कि शनिवार को टीम के सदस्य मुख्य सचिव राजीव सिन्हा समेत अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से मिलेंगे और शाम को राष्ट्रीय राजधानी के लिए रवाना हो जाएंगे। उन्होंने कहा, ‘हम शनिवार की बैठक के दौरान अपनी रिपोर्ट उन्हें देंगे और अपने विचार भी साझा करेंगे। ‘ अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय टीम में कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, मस्तय पालन विभाग, व्यय विभाग, जल शक्ति मंत्रालय, ऊर्जा मंत्रालय, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के अधिकारी शामिल हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बार्सिलोना से करार खत्‍म करना चाहते हैं मेसी

बार्सिलोना : अर्जेंटीना के स्टार स्ट्राइकर लियोनल मेसी (33) ने स्पेनिश फुटबॉल क्लब बार्सिलोना को छोड़ने का मन बना लिया है। टीम के साथ उनका आगे पढ़ें »

कोहली से नहीं, पाकिस्‍तानी बल्‍लेबाजाे से करो मेरी तुलना : बाबर आजम

कराची : पाकिस्तान के सीमित ओवरों के कप्तान बाबर आजम भारतीय कप्तान विराट कोहली से लगातार तुलना से उकता गए हैं और उनका कहना है आगे पढ़ें »

ऊपर