पुरुलिया में भाजपा ने जुलूस निकालकर दिखायी ताकत

पुरुलिया : बलरामपुर में भाजपा के 2 समर्थकों सहित 3 कार्यकर्ताओं की हत्या के विरोध में भाजपा ने जुलूस निकालकर ताकत दिखायी। भाजपा की ओर से मंगलवार से पुरुलिया जिला डीएम कार्यालय के सामने भाजपा ने 4 दिवसीय धरना शुरू किया। धरना से पहले शहर के विभिन्न इलाकों से भाजपा कर्मी एक जुलूस निकालकर डीएम कार्यालय के सामने पहुंचे। धरना स्थल पर उपस्थित समर्थकों को संबोधित करते हुए प्रदेश भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष लॉकेट चटर्जी ने भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या के मामले में सीबीआई जांच की मांग की और कहा कि अभियुक्तों की गिरफ्तारी ना होने तक भाजपा का आंदोलन यूं ही जारी रहेगा। लॉकेट ने कहा कि त्रिलोचन महतो तथा दुलाल कुमार की हत्या साजिश के तहत की गयी है। उन्होंने कहा कि आखिर 18 वर्षीय युवक का राजनीतिक जीवन की शुरुआत करने का सपना कौन-सा अपराध था जिस कारण उसे मार कर फांसी से झुला दिया गया। उन्होंने कहा कि उसके रोते-बिलखते परिवार में विधवा पत्नी तथा अनाथ छोटे बच्चों से वह मिल कर आयी हैं, वह मार्मिक दृश्य देखना काफी कष्टकर है। वहीं इस धरने में शामिल होने के लिए उन्होंने सभी को धन्यवाद दिया और कहा कि यह लड़ाई हमारे लिए नहीं बल्कि त्रिलोचन, दुलाल और जगन्नाथ टुडू के लिए है जिनकी हत्या कर दी गयी। उन्होंने कहा कि यह लड़ाई गणतंत्र की रक्षा के लिए, खूनी राजनीति के विरोध में है। साथ ही भाजपा के अन्य वक्ताओं ने कहा कि पुरुलिया भाजपा के कर्मियों की तृणमूल के गुण्डों द्वारा हत्या की गई है अतः इसकी जांच सीबीआई से ही होनी चाहिए। धरना-प्रदर्शन के पूर्व मंगलवार को पुरुलिया के विभिन्न क्षेत्रों से भारी संख्या में भाजपाई जुलूस के साथ पुरुलिया डीएम कार्यालय के पास पहुंच कर धरना पर बैठ गये। धरना दिन को 10 बजे से शाम 6 बजे तक अगले 4 दिनों तक चलेगा। जुलूस के दौरान वक्ताओं ने भारत माता की जय और जय जयश्री राम के नारे लगाये। जुलूस में भाजपाइयों की भारी संख्या देखी गई। इस मौके पर प्रदेश भाजपा के महासचिव डॉ. शायतंन बसु, पुरुलिया भाजपा जिलाध्यक्ष विद्यासागर चक्रवर्ती, भाजपा नेता सत्यजीत अधिकारी, प्रदीप महतो, किशन शर्मा, विवेक रांगा सहित हजारों की सख्या में भाजपा समर्थक उपस्थित थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

imran

एफटीएफ में अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान, डार्क ग्रे सूची में डाले जाने का डर

पेरिस : पाकिस्तान पर आतंकी वित्तपोषण की निगरानी संस्था फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) कड़े प्रतिब्रध लगा सकती है। रिपोर्टस के मुताबिक, आतंकवाद पर कड़ी आगे पढ़ें »

जीएसटी के दायरे में आ सकता है पेट्रोल डीजल

नई दिल्ली : केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान ने फाइनेंस मिनिस्टमर निर्मला सीतारमण से पेट्रोल, डीजल समेत सभी पेट्रो उत्पा्दों को जीएसटी के दायरे में आगे पढ़ें »

ऊपर