पार्टी लाइन से ऊपर उठकर नेताओं ने की निंदा

कोलकाता : यूपी में भाजपा के युवा नेता योगेश वार्ष्णेय द्वारा मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के खिलाफ दिये गये बयान की राज्य के नेताओं ने भी पार्टी लाइन से ऊपर उठकर निंदा की है।
तृणमूल ने कहा, ‘तुरंत गिरफ्तार किया जाए अभियुक्त को’
योगेश के बयान की निंदा करते हुए तृणमूल के महासचिव पार्थ चटर्जी ने कहा, ‘दिल्ली में केंद्र से हम पूछ रहे हैं कि योगेश को गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा है ? उसने जो किया है, वह संविधान के खिलाफ है। क्या किसी को कुछ भी कहने का अधिकार है ? राजनीति इस प्रकार के शब्दों के इस्तेमाल की अनुमति नहीं देती है।’
पार्थ ने कहा कि 90 के दशक में भी ममता बनर्जी को मारने की कोशिश की गयी थी। उन्होंने कहा, ‘उन्हें (भाजपा) यह पता नहीं कि ममता बनर्जी को जान से मारने की साजिश पहले भी रची जा चुकी है। वे लोग अलीगढ़ या दिल्ली में बैठे – बैठे बड़ी – बड़ी बातें करते हैं। ऐसे लोग राजनीति में दुष्ट तत्व होते हैं। प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष से लेकर अलीगढ़ में योगेश तक भाजपा के नेताओं ने अपनी शब्दावली में केवल गंदे शब्दों का इस्तेमाल करना ही सीखा है। बंगाल में अगर काेई भाजपाई सीएम के खिलाफ कुछ कहेगा तो फिर उसका जवाब देने के लिए व सीएम की रक्षा के लिए हजारों व लाखों तृणमूल समर्थक सड़क पर उतरेंगे। भाजपा का कोई जनाधार नहीं है। वह हथियार के साथ राजनीति कर रही है। बंगाल में 70 के दशक में हम ऐसी राजनीति देख चुके हैं और ऐसी राजनीति को राज्य पहले भी नकार चुका है।’
योगेश के बयान की निंदा करते हुए भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘ममता बनर्जी की तुष्टीकरण की राजनीति के कारण लोगों का उनके प्रति गुस्सा है, लेकिन इसके बावजूद भाजपा किसी प्रकार की हिंसात्मक राजनीति का समर्थन नहीं करती है। ऐसे बयान की पार्टी निंदा करती है।’ वहीं प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने भी योगेश के बयान की निंदा की और कहा, ‘भाजपा इस प्रकार की राजनीति की निंदा करती है, लेकिन जब पश्चिम बंगाल के मंत्रियों की मौजूदगी में देश के प्रधानमंत्री के खिलाफ फतवा जारी किया गया था तो उस समय उसकी भी निंदा होनी चाहिए थी।’
भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने कहा, ‘ऐसे बयान देने वाला भाजपा का नेता है कि नहीं, इसमें भी संदेह है। कोई जेहादी ही इस तरह के बयान दे सकता है।’
इस संबंध में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने कहा, ‘हम लोग इस प्रकार के अभद्र बयानों के सख्त खिलाफ हैं। ऐसे बयान न केवल हिंसा को बढ़ावा देते हैं बल्कि ध्रुवीकरण का माहौल भी उत्पन्न करते हैं। योगेश के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की आवश्यकता है।’
वहीं माकपा के विधायक सुजन चक्रवर्ती ने कहा, ‘योगेश के खिलाफ उचित कार्रवाई करनी होगी। पुलिस को भी कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। यह एक गैर व्यावहारिक और अभद्र बयान है।’

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

बराकर में रामनवमी की रैली के दौरान जमकर पथराव, रैफ उतारी गयी

कुल्टी : सोमवार को रामनवमी को लेकर बराकर में निकाली गयी रैली में 2 समुदायों के बीच जमकर पथराव हुआ। जानकारी के मुताबिक, रामनवमी को लेकर विश्व हिन्दू परिषद की ओर से बराकर में बाइक रैली निकाली गयी [Read more...]

तृणमूल नेताओं ने चुनाव प्रचार में झोंकी ताकत, अमर सिंह राई के समर्थन में चलाया जनसंपर्क अभियान

सिलीगुड़ीः दार्जिलिंग लोकसभा सीट से तृणमूल प्रत्याशी अमर सिंह राई के समर्थन में पार्टी नेताओं ने चुनाव प्रचार में पूरी ताकत झोंक दी है। सोमवार को राज्यसभा के पूर्व सांसद विवेक गुप्ता, मंत्री अरूप विश्वास, पूर्व क्रिकेटर [Read more...]

मुख्य समाचार

आरबीआई ने रेपो रेट घटाई, लोन सस्ते होने की उम्मीद

मुंबईः भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो रेट में 0.25% की कटौती की है। यह 6.25% से घटकर 6% हो गई है। मॉनेटरी पॉलिसी कमेटी (एमपीसी) की बैठक खत्म होने के बाद गुरुवार को ब्याज दरों की घोषणा की गई। [Read more...]

कांग्रेस का पूरा घोषणापत्र हिंदी में पढ़ें

कांग्रेस ने मंगलवार को अपना घोषणापत्र जारी किया जिसमें गरीब परिवारों को 72 हजार रुपये सालाना, 22 लाख सरकारी नौकरियां, महिलाओं को आरक्षण, धारा 370 को न हटने देने और देशद्रोह की धारा हटाने सहित कई वादे किए। यहां क्लिक [Read more...]

ऊपर