पद्मश्री सितांशु यशश्चंद्र कर्तृत्व समग्र सम्मान से सम्मानित

कोलकाता : मंगलवार को भारतीय भाषा परिषद के द्वारा कर्तृत्व समग्र सम्मान का आयोजन परिषद सभागार में किया गया। इस अवसर पर प्रख्यात गुजराती लेखक पद्मश्री सितांशु यशश्चंद्र को उनके साहित्यिक योगदान के लिए कर्तृत्व समग्र सम्मान से सम्मानित किया गया। इसके साथ ही 16 बार राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता मशहूर फिल्म निर्देशक गौतम घोष, प्रख्यात रंग-निर्देशक व्योमेश शुक्ल, सौ वर्ष पुराने मारवाड़ी बालिका विद्यालय की संरक्षिका सुधा जैन, आर एन सिंह मेमोरियल हाई स्कूल की प्राचार्य उषा सिंह जो स्कूल को उच्च स्तर का शिक्षा संस्थान बनाने में सतत प्रयत्नशील हैं, को भी उनके अमूल्य योगदान के लिए परिषद के द्वारा जन कल्याण सम्मान से सम्मानित किया गया। इस अवसर पर परिषद की अध्यक्ष कुसुम खेमानी ने बताया कि परिषद के संस्थापक सीताराम सेकसरिया के जन्म दिवस के अवसर पर इस सम्मान समारोह का आयोजन किया गया है। सीताराम जी ने समाज के विकास के लिए अनेक कार्य किए इसके साथ ही वे महिलाओं के विकास के लिए सतत प्रयत्नशील रहते थे। उन्होंने महिलाओं के लिए विद्यालय और अस्पताल का निर्माण करवाया। इसके साथ ही परिषद के द्वारा महिलाओं को सम्मानित करने का मुख्य उद्देश्य उनके द्वारा जिंदगी की लड़ाई लड़ते हुए सामाजिक कार्यों में तल्लीन रहना है। इस अवसर पर विशिष्ट शिक्षाविद और लंबे समय तक साहित्य अकादमी के सचिव रह चुके डॉ. इंद्रनाथ चौधरी ने बताया कि 1974 में जब देश में हिन्दी आंदोलन अपने चरम पर था तब सीताराम सेकसरिया और भागीरथ कानोड़िया ने अपनी दूरदर्शिता से भारतीय भाषा परिषद की स्थापना की, जिसका उद्देश्य हिन्दी के साथ ही अन्य भाषाओं के विकास के लिए कार्य करना है। इस अवसर पर परिषद के उपाध्यक्ष ईश्वरी प्रसाद टांटिया, निदेशक डॉ. शंभुनाथ, नंदलाल साह, घनश्याम शुक्ला, राजीव लोचन कानोड़िया, रतन साह के साथ ही कई गण्यमान्य अतिथि उपस्थित रहे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

अपराध

कटारिया स्टेशन के पास ट्रेन से कटकर युवक की मौत

भागलपुर : बिहार में पूर्व-मध्य रेलवे के बरौनी-कटिहार रेलखंड के कटारिया स्टेशन के निकट मंगलवार को ट्रेन से कटकर एक युवक की मौत हो गयी। नवगछिया आगे पढ़ें »

विद्यापति की शृंगारिक रचनाओं के नायक-नायिका समाज को पढ़ाते हैं मर्यादा का पाठ

दरभंगा : मैथिली के प्रसिद्ध विद्वान एवं लेखक डॉ. शांतिनाथ सिंह ठाकुर ने मैथिली भाषा के विकास में महाकवि विद्यापति की शृंगारिक रचनाओं के जबरदस्त आगे पढ़ें »

ऊपर