पकड़े गये आतंकवादियों में इंजीनियरिंग स्टूडेंट से लेकर श्रमिक तक शामिल

 

कोलकाता : एनआईए ने बड़ी कार्रवाई करते हुए पश्चिम बंगाल से 6 और केरल से 3 आतंकवादियों को गिरफ्तार किया है। सूत्रों के अनुसार, पश्चिम बंगाल से गिरफ्तार आतंकवादियों में इंजीनियरिंग स्टूडेंट से लेकर श्रमिक तक शामिल हैं। हालांकि घर वाले इस बात पर विश्वास नहीं कर रहे हैं कि उनके परिवार का कोई सदस्य आतंकवादी भी हो सकता है।
मामून भी है प्रवासी श्रमिक
मोइनुल की तरह ही अल ममून कमाल भी प्रवासी श्रमिक हैं। डोमकल के रायपुर- नड्डापाड़ा में उसका घर है। लगभग 35 वर्षीय मामून बंगलुरू में राजमिस्त्री का काम करता है। दो वर्ष पहले वह घर लौटा था। उसके बाद से ही वह गांव में कभी राजमिस्त्री तो कभी गाड़ी चलाने का काम करता था। अबू सुफियान (35) जिले के रानीनगर थाना क्षेत्र स्थित कालीनगर का निवासी है। वह केरल में श्रमिक का काम करता था लेकिन पिछले पांच माह से वह यहां है और अलकायदा के लिए काम कर रहा है।  लियुयान अहमद डोमकल थानांतर्गत ओल्ड बीडीओ मोड़ इलाके का निवासी है। वह इलेक्ट्रिशियन के तौर पर काम करता था। इलाके में प्राइवेट तौर पर वह काम कर लोगों से संपर्क बनाता था। वहीं डोमकल का अतिउर रहमान भी श्रमिक हैे।  लोगों का कहना था कि 6 माह पूर्व ये सभी जिस तरह थे, महज कुछ माह पूर्व इनकी जीवनशैली में बदलाव दिखने लगा था। इनकी कमाई बढ़ गयी थी और वे ज्यादा गंभीर हो गये थे। सधी हुई बातें और काम से मतलब रखते हुए ये आगे बढ़ रहे थे। परिचित जब उनसे उनके काम के बारे में पूछते थे तो वे कुछ अलग काम का परिचय देकर उनसे बात करते थे। उनके रुतबे और आमदनी को देखकर भी कुछ लोग उनके संपर्क में आने लगे थे जिनके नामों का खुलासा अभी नहीं किया गया है।

भाई​​ रिजवान ने कहा, ‘नाजमुस आतंकवादी नहीं हो सकता’

छोटा भाई अलकायदा का आतंकवादी है, इस बात पर रिजवान अली किसी हाल में विश्वास नहीं कर पा रहा है। रिजवान का छोटा भाई नाजमुस साकिब इंजीनियरिंग का छात्र है। शनिवार की सुबह उसी ना​जमुस को एनआईए ने गिरफ्तार किया। ऐसे में लगभग 35 वर्षीय रिजवान अब तक विश्वास नहीं कर पा रहा है कि उसका भाई आतंकवादी है। रिजवान बार – बार कह रहा है, ‘इस बात पर मुझे विश्वास नहीं है।’ रिजवान ने बताया कि शनिवार की सुबह केंद्रीय वाहिनी को साथ लेकर एनआईए के अधिकारियों ने डोमकल स्थित उनके घर पर छापेमारी की। वे नाजमुस को ढूंढ रहे थे। उस समय रिजवान के पास ही नाजमुस भी खड़ा था। परिचय मिलने के बाद 21 वर्षीय नाजमुस को एनआईए के अधिकारी उठा ले गये। रिजवान ने कहा, ‘मेरा छोटा भाई डोमकल के बसंतपुर इंजीनियरिंग कॉलेज के कम्प्यूटर साइंस के द्वितीय वर्ष का छात्र है। वह किसी संगठन में शामिल है, इस पर मुझे विश्वास नहीं हो रहा। दिल्ली तो दूर की बात, वह कभी कोलकाता भी नहीं गया। मैं दिन में 20 से 50 रुपये खर्च देता हूं और वह पूरे दिन साइकिल से इधर – उधर घूमता है। वह निर्दोष है।’ एनआईए सूत्राें ने बताया कि नाजमुस का मोबाइल फोन, चार्जर और एक लैपटॉप जब्त किया गया है। कई धार्मिक दस्तावेज भी उसके पास से मिले हैं। हालांकि रिजवान का दावा है कि धार्मिक कागज के नाम पर बंगला में लिखा हुआ रात में नमाज पढ़ने की पद्धति है।

मोइनुल के पिता ने कहा, ‘बेटा श्रमिक है, आतंकवादी नहीं’

रिजवान की तरह बेटे की गिरफ्तारी को लेकर मोइनुल मंडल के पिता सरफान को भी इस पर विश्वास नहीं है कि उसका बेटा आतंकवादी है। मोइनुल मुर्शिदाबाद के जलंगी के मधुबोना गांव का रहने वाला है और पेशे से श्रमिक है। वह केरल में काम करता था। लॉकडाउन हट जाने के बाद अन्य प्रवासी श्रमिकों के साथ लगभग साढ़े 3 महीने पहले वह घर लौटा था। मोइनुल की मां ने कहा, ‘शनिवार की भोर में बेटा शौचालय गया था। तभी पुलिस आयी और कहा कि दिल्ली से आये हैं। मोइनुल को ढूंढकर शौचालय से गिरफ्तार किया गया। घर से कई दस्तावेज भी ले जाये गये हैं।’

शेयर करें

मुख्य समाचार

हैदराबाद ने राजस्थान को 8 विकेट से हराया, मनीष-शंकर की आकर्षक बल्‍लेबाजी, टॉप-5 में पहुंची हैदराबाद

दुबई : मनीष पांडे की आकर्षक पारी और विजय शंकर के साथ उनकी अटूट शतकीय साझेदारी से सनराइजर्स हैदराबाद ने गुरुवार को यहां राजस्थान रॉयल्स आगे पढ़ें »

भारतीय महिला दल टी20 चैलेंज के लिये संयुक्त अरब अमीरात पहुंचा

दुबई : भारत की 30 शीर्ष महिला क्रिकेटर टी20 चैलेंज में भाग लेने के लिये गुरूवार को यहां पहुंची जो ‘मिनी महिला आईपीएल’ के नाम आगे पढ़ें »

ऊपर