दो महीने बाद कोलकाता में घरेलू विमानों का आवागमन शुरू

कोलकाता : कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए लगाए लॉकडाउन के कारण दो महीने बाद कोलकाता में घरेलू विमानों का आवागमन गुरुवार को बहाल हो गया। देशभर में घरेलू विमान संचालन 25 मई को शुरू हो गया था लेकिन कोलकाता में यह बहाल नहीं हो सका क्योंकि राज्य प्रशासन चक्रवात अम्फान के बाद राहत एवं पुनर्वास के काम में व्यस्त था। सूत्रों ने बताया कि कोलकाता से पहला विमान 40 यात्रियों को लेकर सुबह छह बजकर पांच मिनट पर गुवाहाटी के लिए रवाना हुआ जबकि बृहस्पतिवार सुबह 122 यात्री नयी दिल्ली से यहां पहुंचे। कोलकाता हवाईअड्डे ने ट्वीट किया, ‘आपका स्वागत है यात्रियों। दो महीने बाद दिल्ली हवाईअड्डे से 122 यात्री कोलकाता हवाईअड्डे पहुंचे और 40 यात्री गुवाहाटी के लिए रवाना हुए। अच्छी तरह जांच की गई और यात्रियों की चहलपहल से आबाद टर्मिनल पर नियमित रूप से साफ-सफाई की गई।’
दस विमान उड़ान भरेंगे
नेताजी सुभाष चंद्र बोस अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे के सूत्रों ने बताया कि गुरुवार को कोलकाता से दस विमान उड़ान भरेंगे और इतनी ही संख्या में विमान शहर में उतरेंगे। उत्तर बंगाल के बागडोगरा हवाईअड्डे पर भी घरेलू विमान परिचालन बहाल होगा। पश्चिम बंगाल सरकार ने हाल ही में घरेलू विमानों से राज्य में आने वाले लोगों के लिए दिशा निर्देश जारी किए। इनमें, स्वास्थ्य विभाग के एक परामर्श के अनुसार, बृहस्पतिवार से राज्य में आने वाले यात्रियों को शपथ पत्र देना होगा कि वे पिछले दो महीने में कोविड-19 से संक्रमित नहीं पाए गए। परामर्श में सोमवार को कहा गया कि यात्रियों को हवाईअड्डे पहुंचने पर स्वास्थ्य जांच भी करानी होगी। हवाईअड्डे के एक शीर्ष अधिकारी ने बुधवार को बताया कि यात्रियों को कोरोना वायरस से सुरक्षित रखने के लिए शहर के हवाईअड्डे पर सामाजिक दूरी के साथ ही लोगों के बीच बिना आपसी संपर्क के यात्रा करने के इंतजाम किए गए हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

25 करोड़ की हेरोइन के साथ तस्कर गिरफ्तार

अभियुक्तों के पास से 5 किलो हेरोइन और कार जब्त कोलकाता : 25 करोड़ रुपये की हेरोइन के साथ कोलकाता पुलिस के एसटीएफ अधिकारियों ने एक आगे पढ़ें »

tmc

पहले यूपी की कानून व्यवस्था देखें, फिर बंगाल पर उंगली उठाएं – तृणमूल

हाथरस की घटना पर योगी को तृणमूल ने घेरा कोलकाता : बंगाल में चुनावी माहौल गरम है। भाजपा लगातार आक्रामक हो रही है, वहीं तृणमूल भी आगे पढ़ें »

ऊपर