दहेज में नहीं मिला पलंग तो दुल्हन को मार डाला

एक माह पूर्व हुयी थी शादी

मालदहः दहेज में बेहतर पलंग नहीं मिलने से नाराज युवक ने परिजनों की मदद से नवविवाहिता की गला घोंट कर हत्या कर दी। मोथाबाड़ी थानांतर्गत टीटीपाड़ा के गीतामोड़ इलाके में यह घटना घटी। गृहवधू तृप्ति मंडल (22) के शव को बरामद कर पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए मालदह मेडिकल कालेज सह अस्पताल भेज दिया। घटना के बाद से ही पति अचिंत्य मंडल परिजनों सहित फरार है। तृप्ति के परिजनों ने बताया कि पेशे से शटर मिस्त्री अचिंत्य के साथ तृप्ति की शादी एक माह पूर्व हुयी थी। पूरे तामझाम से हुयी शादी में वधू पक्ष ने वर पक्ष को मांग के अनुरूप सभी सामान देने की पूरी कोशिश की। तृप्ति कालियाचक के सूजापुर पंचायत के मधुघाट के निवासी नगेन मंडल की छोटी बेटी थी। दहेज में मोटरसायकिल, नगद रुपये सहित घर के उपयोग में आने वाली सभी चीजें दी गयीं। दहेज में मिले पलंग की गुणवत्ता ठीक नहीं थी, जिसके कारण अचिंत्य ने ससुराल पक्ष को भलाबुरा भी कहा था। इसके बाद से ही नववधू के साथ ससुराल में अत्याचार शुरू हो गया। घटना की शिकायत मिलने पर उसके पिता स्वयं अचिंत्य के घर गये और बेटी को विदा कराकर अपने साथ ले आये। अचिंत्य को समझाकर फिर से तृप्ति को उसके ससुराल भेज दिया गया, लेकिन पलंग खरीद कर नहीं दिया जा सका था, जिसके कारण गुस्साये अचिंत्य ने तृप्ति के साथ मारपीट कर उसका गला घोंट दिया। आरोप है कि अचिंत्य के इस कार्य में उसके अन्‍य परिजनों ने भी सहयोग ‌किया। गृहवधू की हत्या कर शव को फंदे से लटका दिया गया। स्थानीय निवासियों से मिली जानकारी के आधार पर जब तृप्ति के पिता और अन्‍य परिजन वहां पहुंचे तो बेटी को फंदे से लटकते पाया। मोथाबाड़ी पुलिस को घटना की सूचना दी गयी और पुलिस ने शव को बरामद कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। शव पर पिटायी के कई निशान मौजूद थे। पुलिस ने भी माना कि गृहवधू की हत्या कर शव को फंदे से लटका दिया गया था। घटना की जांच की जा रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

मैच फीट के लिए चार चरण में अभ्यास करेंगे भारतीय क्रिकेटर : कोच श्रीधर

नयी दिल्ली : भारत के क्षेत्ररक्षण कोच आर श्रीधर का कहना है कि देश के शीर्ष क्रिकेटरों के लिए चार चरण का अभ्यास कार्यक्रम तैयार आगे पढ़ें »

नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद करे आईसीसी : सैमी

नयी दिल्ली : वेस्टइंडीज के पूर्व टी-20 कप्तान डेरेन सैमी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) और अन्य क्रिकेट बोर्डों से नस्लभेद के खिलाफ आवाज बुलंद आगे पढ़ें »

ऊपर