दक्षिण दिनाजपुर जिला परिषद पर भाजपा का कब्जा

कोलकाता : तृणमूल से भाजपा में शामिल होने वालों की लिस्ट खत्म होती नजर नहीं आ रही है। बंगाल की राजनीति में पहली बार ऐसा हुआ है कि पूरा का पूरा जिला परिषद ही किसी पार्टी में चला गया हो। साेमवार को नयी दिल्ली स्थित भाजपा हेडक्वार्टर में दक्षिण दिनाजपुर जिला परिषद के अधिकतम सदस्यों के भाजपा में शामिल हो जाने के कारण अब दक्षिण दिनाजपुर जिला परिषद पर भाजपा का कब्जा तय हो गया है। दक्षिण दिनाजपुर जिला परिषद के सदस्यों के अलावा अलीपुरदुआर जिला के कालचिनी के तृणमूल विधायक विल्सन चम्प्रामारी भी भाजपा में शामिल हो गये। इसके अलावा दक्षिण दिनाजपुर जिला परिषद के पूर्व अध्यक्ष व वरिष्ठ तृणमूल नेता बिप्लव मैत्र ने भी भाजपा का दामन थाम लिया।
दक्षिण दिनाजपुर जिला परिषद में कुल 18 सदस्य हैं जिनमें से 10 सदस्यों को नयी दिल्ली में भाजपा में शामिल करवाया गया। इस दौरान भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव व बंगाल के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष,वरिष्ठ नेता मुकुल राय, व बैरकपुर के भाजपा सांसद अर्जुन सिंह समेत अन्य भाजपा नेता मौजूद थे। जिला परिषद के सदस्यों का सभी भाजपा नेताओं ने पार्टी में स्वागत किया। भाजपा नेता मुकुल राय ने बताया कि कुल 18 सदस्याें में से 10 सदस्य सोमवार को भाजपा में शामिल हो गये जबकि और 4 सदस्य जल्द ही शामिल हो जाएंगे। मुकुल राय ने कहा, ‘अभी केवल पहले चरण का ​विस्तार चालू है। बंगाल की राजनीति में अभी भूकंप चल रहा है और यह केवल सिनेमा का ट्रेलर है। 7 चरणों में शामिल करवाना पूरा होने तक बंगाल में ममता सरकार नहीं रहेगी।’ मुकुल राय ने कहा कि भाजपा में शामिल होने का 7 चरण पूरा होने तक ममता सरकार विधानसभा में बहुमत खो देगी। एक जिला परिषद यानी एक सरकार और पूरी पिक्चर अभी बाकी है। इधर, भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘बंगाल में हिंसा का दौर अब भी जारी है, पूरी तरह अराजकता का माहौल है।’ कटमनी के मुद्दे पर विजयवर्गीय ने कहा कि सीएम कह रही हैं कि कटमनी वापस की जाए, लेकिन जो कटमनी ऊपर के नेताओं तक गयी है, उसका क्या होगा। इस मुद्दे पर केवल नीचले स्तर के नेताओं को बदनाम किया जा रहा है। इधर, प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘कटमनी के मुद्दे पर बंगाल सरकार पूरी तरह घिर गयी है। तृणमूल के चुने हुए जनप्रतिनिधि अपने घरों में ताला मारकर भाग रहे हैं। राज्य में भय और आतंक का माहौल बनाया जा रहा है।’ उन्होंने कहा कि 5 नगरपालिकाएं हमारे हाथ में आ गयी हैं, लेकिन दार्जिलिंग में प्रशासक बैठा दिया गया है। इस तरह से कब तक राज्य सरकार भाजपा को रोक पायेगी। 18 नगरपालिकाओं में चुनाव बाकी है क्योंकि राज्य सरकार हारने के डर से चुनाव नहीं कराना चाह रही है। भाजपा को रोकने की सारी कोशिशें विफल हो जाएंगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोलकाता में लॉजिस्टिक के लिए विश्व बैंक तैयार कर रहा मास्टर प्लान : अमित मित्र

परियोजना की​ लागत करीब 300 मिलियन डॉलर कोलकाता : कोलकाता मेट्रोपॉलिटन एरिया में जल्द ही लॉजिस्टिक के क्षेत्र में बड़ी संभावनाएं सामने आने वाली हैं। इसकी आगे पढ़ें »

अफवाहों पर ध्यान ना दें, हम सब एक हैं – विजयवर्गीय

कोलकाता : भाजपा के सांगठनिक चुनाव काे लेकर शनिवार को माहेश्वरी भवन में भाजपा की अहम बैठक की गयी। इस बैठक में भाजपा के राष्ट्रीय आगे पढ़ें »

ऊपर