… तो तोड़ दिया जाएगा टाला ब्रिज

शनिवार को सीएम करेंगी अहम बैठक
सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : बैरकपुर से कोलकाता को जोड़ने में सबसे अहम भूमिका निभाने वाला टाला ब्रिज तोड़ दिया जायेगा। जी हां। काफी दिनों से कमजोर टाला ब्रिज की हालत इतनी खराब हो गयी है कि मुंबई के एक्सपर्ट टीम ने इस ब्रिज को पूरी तरह से तोड़ने का परामर्श दिया है। एक्सपर्ट टीम ने अपनी जांच रिपोर्ट राज्य के मुख्य सचिव राजीव सिन्हा को सौंप दी है। अब ब्रिज को लेकर सीएम ममता बनर्जी शनिवार को नवान्न में अहम बैठक करेंगी, जिसके बाद ब्रिज का भविष्य तय होगा। सूत्रों के मुताबिक एक्सपर्ट टीम ने पंचमी को टाला ब्रिज का परिदर्शन किया। एक्सपर्ट टीम ने मंगलवार तक अपना काम जारी रखा और बुधवार को रिपोर्ट राज्य के मुख्य सचिव को सौंपी गयी। उल्लेखनीय है कि इससे पहले राइट्स के एक्सपर्ट ने भी ब्रिज की हालत पर बेहद चिंता जतायी थी। राइट्स की सलाह पर ही राज्य सरकार ने टाला ब्रिज पर बड़े वाहनों तथा बसों के आवागमन पर रोक लगायी है।
विकल्प रास्ता निकालना होगा कठिन
सूत्रों के मुताबिक अगर सरकार एक्सपर्ट की सलाह को मानते हुए इसे तोड़ने का फैसला करती है तो टाला ब्रिज के बदले विकल्प के रास्तों को तलाशना आसान नहीं होगा। उत्तर 24 परगना के बैरकपुर व निकटवर्ती इलाकाें तथा बारानगर को कोलकाता से यह ब्रिज जोड़ता है। सूत्र बताते हैं कि सरकार 2 महीने में विकल्प रास्ते को तलाश लेना चाहती है।
क्या – क्या खामियां पायी गयीं
1. सूत्रों के अनुसार 62 वर्ष पूर्व जब यह ब्रिज तैयार किया गया उस दौरान यहां वाहनों का दबाव काफी कम था जो अभी समय के साथ बढ़ता गया।
2. ब्रिज के अधिकांश हिस्से क्षतिग्रस्त हाे चुके हैं।
3. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि ब्रिज की मरम्मत करने पर ज्यादा दिनों तक लाभ नहीं मिल पाएगा।
4. टाला ब्रिज के 7 मुख्य स्थान अत्यंत कमजोर हो चुके हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

Twitter

ट्विटर ने कहा-विश्व के नेताओं के अकाउंट को नियमों से पूरी तरह छूट नहीं

सैनफ्रांसिस्को : ट्विटर ने कहा है कि विश्व के नेताओं को इसके उन प्रतिबंधों से पूरी तरह छूट नहीं है, जिसमें उपयोगकर्ता हिंसा की धमकी आगे पढ़ें »

Mahatma Gandhi

विश्वविद्यालय के छात्रों ने मैनचेस्टर में गांधी की मूर्ति लगाये जाने का विरोध किया

लंदन : राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की मूर्ति लगाये जाने के प्रस्ताव के खिलाफ ब्रिटेन में मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के छात्रों ने ‘मैनचेस्टर कैथेड्रल’ के बाहर एक आगे पढ़ें »

ऊपर