तस्करों ने बीएसएफ जवान पर किया हमला, बम विस्फोट में जवान के हाथ उड़े

बीएसएफ ने कहा – हम नहीं छोड़ेंगे
अब बंगलादेशी तस्कर भी हमले में दे रहे हैं यहां के तस्करों का साथ
सन्मार्ग संवाददाता
बनगांव : बनगांव के आंगराइल सीमा पर गुरुवार के तड़के पशु तस्करों को रोकने के क्रम में 64 नंबर बटालियन के एक जवान अनिसुर रहमान (25) पर तस्करों के समूह ने बमों से हमला​ कर दिया जिसमें उनका एक हाथ बुरी तरह नष्ट हो गया। इसके साथ ही जवान के पेट, सीने व पूरे शरीर में भी गंभीर चोटें आयी हैं। इस घटना को बीएसएफ के महानिरीक्षक सीमान्त मुख्यालय दक्षिण बंगाल, कोलकाता ने गंभीरता से लिया है और अपने सभी क्षेत्रीय मुख्यालय एवं बटालियनों को तस्करों के प्रति आक्रामक रूप से सबक सिखाने का निर्देश भी दिया है। सीमा सुरक्षा बल ने बंगलादेश की सीमा पर अपराध रोकने के लिए स्ट्रोंग प्रोटेस्ट नोट लॉज कर रहा है।
क्या है घटना
भारतीय सीमा से बांग्लादेश में 10-15 पशुओं की तस्करी करने का जबरदस्त प्रयास किया जा रहा था। तस्कर देशी बम, दाव, हसिया, लाठी, हाई बीम टार्च आदि से लैस थे। उनकी गतिविधियों को देखते हुए बीपी 17 /125 के पास बीएसएफ जवानों ने उन्हें चेतावनी दी। इस दौरान इन तस्करों के साथ ही बांग्लादेशी तस्कर भी दूसरी ओर से अ​भियुक्तों की मदद के लिए आगे आ गये। तस्करों ने ड्यूटी पर तैनात बीएसएफ आरक्षक अनिसुर रहमान को घेरने का प्रयास किया। तस्करों ने अनिसुर को भ्रमित करने के लिए शक्तिशाली टार्च लाइट का प्रकाश उनकी आंखों पर दिया और उसी समय उन पर शक्तिशाली देशी बम फेंका ताकि वह आगे न आये। मगर इसके बाद भी अनिसुर रहमान ने पीछे बढ़ने के बजाय साहस व वीरता दिखायी और तस्करों पर अपने रायफल से गोली चलायी मगर मानों उन तस्करों ने मन बना लिया था कि वे भी किसी कीमत पर अपने काम को अंजाम देकर रहेंगे।
हाथ के साथ ही शरीर के कई हिस्सों में घुसे बम की छर्रे
उन्होंने अनिसुर रहमान को लक्ष्य कर पुनः बम फेंके जिसमें से एक बम अनिसुर रहमान के दाहिने हाथ पर फटा। बम के कई छर्रे अनिसुर रहमान के फेंफड़े, लिवर और पेट में घुस गए। हालांकि बम धमाकों को सुनकर आस-पास के नाके में तैनात बीएसएफ के अन्य जवान भी आरक्षक अनीसुर रहमान की सहायता के लिए मौके पर पहुंचे और उन्होंने वहां अपने साथी को बेहोश पाया। उन्होंने अनिसुर को बनगांव अस्पताल पहुंचाया जहां से उसे कोलकाता के मेडिका में स्थानांतरित कर दिया गया। अनिसुर के साहस से घबराकर वे तस्कर आखिरकार पशुओं को छोड़कर व अंधेरे का फायदा उठाकर वहां से भाग निकले। बताया गया है कि अनिसुर की गोली से एक तस्कर भी घायल हुआ है मगर वह घायल अवस्था में ही दूसरी ओर भागने में सफल रहा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

टैटू का क्रेज ही सकता है जानलेवा

नई दिल्ली : टैटू का शौक इन आजकल लड़कियों में काफी देखा जा रहा है। अब टैटू बनवाना पेनलेस है बन चुका है। हालाँकि लोगों आगे पढ़ें »

एटीएम से नहीं निकला पैसा तो रिफंड के साथ मुआवजा भी देना होगा बैंक को

नई दिल्ली: आरबीआई उपभोक्ता के फायदे के लिए बैंकिंग से जुड़े नियमों में लगातार बदलाव करता रहता है। हाल ही में आरबीआई ने बैंकों को आगे पढ़ें »

ऊपर