ड्रोन से नुकसान का लिया जाएगा जायजा

कोलकाताः चक्रवाती तूफान बुलबुल को लेकर नवान्नो में कंट्रोल रूम खोला गया था। शनिवार की रात यहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पहुंची व परिस्थिति पर नजर रखी। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि बुलबुल प्रभावित इलाकों में नुकसान का जायजा लेने के लिए कोलकाता पुलिस के ड्रोन की मदद ली जाएगी। हालांकि फिलहाल नुकसान का सही आकलन लगाना मुश्किल है। मुख्यमंत्री ने कहा कि 100 से 120 कि.मी. की रफ्तार से आए चक्रवाती तूफान के कारण कच्चे मकानों, कृषि जमीन को नुकसान पहुंचा है। इस कारण पश्चिम व पूर्व मिदनापुर, उत्तर व दक्षिण 24 परगना सहित विभिन्न क्षेत्रों पर प्रभाव पड़ा है। हालांकि तूफान अब कमजोर पड़ा है। इसके बाद भी परिस्थिति के सामान्य होने में समय लगेगा। ऐसे में सरकार की ओर से राहत व बचाव कार्य जारी रहेगा। वहीं सोमवार को प्रभावित क्षेत्रों में स्कूल बंद रहेगा। उन्होंने कहा ‌कि पूर्व मिदनापुर के रामनगर, खेजुरी, नंदीग्राम में काफी प्रभाव तूफान का पड़ा है। इसकी मुख्य वजह है कि अब भी तूफान के कारण बारिश हो रही है। हालांकि इसके कमजोर पड़ने से थोड़ी राहत की सांस ली गई है। कंट्रोल रूम में मुख्य सचिव राजीव सिन्हा, गृह सचिव अलापन बंद्योपाध्याय, डीजीपी सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी हर परिस्थिति पर नजर रख रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से गंगा तटवर्ती क्षेत्रों में व साइक्लोन सेंटरों में 318 राहत शिविर खोले गए हैं। यहां 1 लाख 12 हजार 365 लोगों को ठहराया गया है। एक हजार से अधिक‌ सिविक वोलंटियर विभिन्न जगहों पर तैनात हैं। इसके अलावा प्रभावित क्षेत्रों से एक लाख 64 हजार 315 लोगों का उद्धार किया गया है। सीएम ने कहा कि यह एक प्राकृतिक आपदा है। इसमें हम सबके सहयोग की सराहना करते हैं। विशेषकर जिलों में डीएम व अन्य प्रशासनिक अधिकारी रोटेशन के आधार पर तत्पर रहेंगे। जब तक परिस्थिति बिल्कुल स्थिर नहीं होती, विशेष निगरानी जारी रहेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

ममता की हुंकार : नहीं होने देंगे एनआरसी

सागरदिघी (मुर्शिदाबाद) : राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) को लेकर राजनीतिक बहस बढ़ती ही जा रही है। बुधवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने हुंकार भरते हुए आगे पढ़ें »

डीआरआई का रेड और नोटों की बारिश

कोलकाता : महानगर के डलहौसी इलाके के बेन्टिक स्ट्रीट में बुधवार की दोपहर बाद अचानक एक कामर्शियल बिल्डिंग से नोटों की बारिश होने लगी। घटना आगे पढ़ें »

ऊपर