डोमकल में तृणमूल नेता की धारदार हथियार से हत्या

मुर्शिदाबाद : चुनाव प्रचार कर मोटरसाइकिल से लौट रहे तृणमूल कांग्रेस नेता की अज्ञात अपराधियों ने धारदार हथियार से हमला कर हत्या कर दी। यह घटना डोमकल थाना अंतर्गत साहोदियार इलाके में सोमवार की रात 10 बजे घटी। मृतक का नाम अल्ताफ हुसैन (50) था। वह डोमकल पंचायत समिति का कृषि कर्माध्यक्ष था। वो पिछले साल पंचायत चुनाव के पहले तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुआ था। इससे पहले वो माकपा से जुड़ा हुआ था और 2003 से डोमकल पंचायत का प्रधान था। इस हत्याकांड को लेकर अल्ताफ के परिजनों ने डोमकल थाने में 12 लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी है। इस मामले में पुलिस ने एक को हिरासत में लिया है।
जानकारी के मुताबिक अल्ताफ हुसैन सोमवार को साहोदियार गांव में मुर्शिदाबाद से तृणमूल कांग्रेस प्रत्याशी अबू ताहेर खान के पक्ष में प्रचार खत्म कर मोटरसाइकिल से लौट रहा था। मोटरसाइकिल गोराईमाड़ी पंचायत का उप प्रधान साबिर अहमद चला रहा था, जबकि अल्ताफ हुसैन पीछे बैठा हुआ था।
बताया जा रहा है कि विपरीत दिशा से आ रहे एक मारूति वैन ने मोटरसाइकिल में धक्का मारा जिसमें दोनों गिर पड़े। इसी बीच वैन से उतर पांच-छह अपराधियों ने दोनों पर धारदार हथियार से ताबड़तोड़ हमला कर दिया, हालांकि साबिर अहमद वहां से भाग निकला। अपराधियों ने अल्ताफ हुसैन के सिर व गर्दन पर कई बार किये। हमले के बाद सभी अपराधी वैन में सवार होकर फरार हो गये। खून से लथपथ अल्ताफ हुसैन ने वहीं पर दम तोड़ दिया। इस घटना की खबर पाकर डोमकल थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और शव को बरामद कर लिया। इस हत्याकांड को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर शुरू हो गया है। डोमकल नगरपालिका के चेयरमैन सौमिक हुसैन ने इस हत्याकांड में भाजपा और कांग्रेस कर्मियों के शामिल होने की आशंका व्यक्त की है। दूसरी ओर कांग्रेस सांसद अधीर रंजन चौधरी ने मंगलवार को बहरमपुर स्थित पार्टी कार्यालय में प्रेस कांफ्रेंस कर कांग्रेस कर्मियों पर लगाये गये आरोप को बेबुनियाद बताते हुए कहा कि इस घटना में कांग्रेस का कोई हाथ नहीं है। तृणमूल के आपसी विवाद में अल्ताफ की हत्या हुई है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

पर्यावरण संरक्षण सरकार का कर्तव्य, ईआईए-2020 का मसौदा वापस लिया जाए: सोनिया

नयी दिल्ली : कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पर्यावरण प्रभाव आकलन (ईआईए)-2020 की अधिसूचना के मसौदे को लेकर गुरुवार को सरकार पर पर्यावरण संरक्षण से आगे पढ़ें »

कोरोना के बाद बढ़ सकती हैं मानसिक बीमारियां

कोरोना संकट ने एक और समस्या को जन्म दिया है और यह समस्या मानसिक बीमारी के रूप में सामने आई है। कोरोना के इस दुष्प्रभाव आगे पढ़ें »

ऊपर