डेंगू के बाबत सरकार की रिपोर्ट स्पष्ट नहीं : हाई कोर्ट

कोलकाता : डेंगू के बाबत सरकार की तरफ से एफिडेविट की शक्ल में पेश की गई रिपोर्ट स्पष्ट नहीं है। इस बाबत दायर जनहित याचिका (पीआईएल) पर सुनवायी करते हुए एक्टिंग चीफ जस्टिस ज्योतिर्मय भट्टाचार्या और जस्टिस अरिजीत बनर्जी के डिविजन बेंच ने यह टिप्पणी की। इसके साथ ही एडवोकेट जनरल को इस एफिडेविट के पक्ष में दस्तावेजी सबूत पेश करने का आदेश दिया। चीफ जस्टिस ने कहा कि मौत तो मौत होती है, तो फिर सरकारी अस्पतालों में मरने वालों का ही आंकड़ा क्यों दिया गया। इसके साथ ही उन्होंने पूछा कि मौत के आंकड़ों में अंतर्विरोध क्यों है। पीटिशनरों की तरफ से पैरवी कर रहे एडवोकेटों की बहस मंगलवार को पूरी हो गई। इसके बाद चीफ जस्टिस ने एडवोकेट जनरल (एजी) किशोर दत्त को कहा कि वे बुधवार को दस्तावेजी सबूत पेश करते हुए सरकार का पक्ष प्रस्तुत करें। जवाब में एजी ने कहा कि उन्हें सरकार का पक्ष रखने दिया जाए और बुधवार को वे दस्तावेजी सबूत पेश नहीं कर पाएंगे। एफिडेविट में जो दावा किया गया है सरकार को उसी बाबत सबूत पेश करना है। बहरहाल इस मामले से जुड़े एक एडवोकेट के व्यस्त होने के कारण अगली सुनवायी के लिए वृहस्पतिवार का दिन तय किया गया। इसके साथ ही जस्टिस अरिजीत बनर्जी ने कहा कि ठीक है वे वृहस्पतिवार को अंतरिम आदेश दे देंगे, लेकिन डेंगू से कितने लोगों की मौत हुई है इसका आंकड़ा जरूर पेश करें। दरअसल डेंगू से हुई मौत के मामले में विवादास्पद तथ्य पेश किए गए हैं। जैसे नेशनल वेक्टर बॉर्न डिजीज कंट्रोल प्रोग्राम (राष्ट्रीय मच्छर जनित रोग नियंत्रण कार्यक्रम) के मुताबिक चार अक्टूबर तक पश्चिम बंगाल में डेंगू से 19 लोगों की मौत हुई थी और 10,663 लोग इसके शिकार हुए थे। दूसरी तरफ सरकार की तरफ से नौ नवंबर को दाखिल की गई एफिडेविट में कहा गया है कि डेंगू से कुल 19 लोगों की मौत हुई है और 16 हजार से ‌अधिक लोग इसके शिकार हुए हैं। चीफ जस्टिस ने पूछा कि क्या चार अक्टूबर से नौ नवंबर के बीच कोई मौत नहीं हुई है। यहां गौरतलब है कि एडवोकेट अनिन्द्य सुंदर दास, कांग्रेस के अधीर चौधरी और भाजपा की तरफ से दायर पीआईएल पर बहस करते हुए एडवोकेट विकास रंजन भट्टाचार्या, आशिष सान्याल और पार्थो घोष ने आरोप लगाया कि सरकार डेंगू से मरने वालों के आंकड़े को छुपा रही है। इस मौके पर हुई गर्मागर्म बहस में दखल देते हुए जस्टिस अरिजीत बनर्जी ने कहा : ‘यह कोई एक दूसरे के खिलाफ आपराधिक मुकदमा नहीं है, बल्कि इसका सरोकार हम सभी से है, लिहाजा सारे तथ्यों को सामने लाया जाना चाहिए।’ इस मौके पर पीआईएल के पक्ष के पीटिशनरों ने कहा कि डॉक्टरों पर डेंगू से मौत नहीं होने का लिखने के लिए दबाव डाला जा रहा है। इसी वजह से एक डॉक्टर का निलंबन भी हुआ है। इसके साथ ही यह दबाव भी डाला जा रहा है ‌कि डेंगू की जांच के लिए आरडीटी टेस्ट का इस्तेमाल किया जाए। जबकि डब्ल्यूएचओ के मुताबिक एलिजा टेस्ट ही मान्य विधि है। बहरहाल इस मामले पर डिविजन बेंच वृहस्पतिवार को अंतरिम आदेश देगा।

एसे अन्य लेख

Leave a Comment

अन्य समाचार

प्रियंका गांधी ने शहीद की बेटी से कहा-‘डॉक्टर बनने का सपना पूरा करने में हर मदद करूंगी’

उन्नाव : पुलवामा हमले में शहीद हुए जाबांजो के घर वालों के साथ आज पूरा देश खड़ा है गम की इस घड़ी में हर कोई उनकी मदद के लिए हाथ आगे बढ़ा रहा है चाहे वह सरकार के तरफ से [Read more...]

शूटिंग विश्व कप में अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद : अपूर्वी चंडेला

58 देशों के 503 खिलाड़ी उतरेंगे नई दिल्ली: 21 से 28 फरवरी के बीच होगा आयोजनराष्ट्रमंडल खेलों की स्वर्ण पदक विजेता भारतीय निशानेबाज अपूर्वी चंडेला को उम्मीद है कि आगामी विश्व कप में भारतीय निशानेबाज ज्यादा से ज्यादा ओलम्पिक कोटा हासिल [Read more...]

मुख्य समाचार

3 साल में 28 अरब डॉलर का हो जाएगा स्मार्ट फीचर फोन बाजार : रिपोर्ट

नई दिल्ली : स्मार्टफोन बाजार अगले तीन सालों में 28 अरब डॉलर का हो जाएगा। यह बात काउंटरप्वाइंट ने अपने रिपोर्ट में कही  है। काउंटरप्वाइंट के शोध निदेशक नील शाह ने कहा कि  साल 2021 के अंत तक दुनिया भर [Read more...]

हस्तशिल्प मेले में पसंद किए जा रहे हैं पूर्वोतर क्षेत्रों के उत्पाद

ग्रेटर नोएडा: आज ग्रेटर नोएडा के एक्सपो सेंटर ऐंड मार्ट में ईपीसीएच अध्यक्ष ओपी प्रह्लादका, मेला अध्यक्ष राजेश कुमार जैन, ईपीसीएच के महानिदेशक राकेश कुमार और प्रशासनिक समिति के अन्य सदस्यों द्वारा पुलवामा के शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित करने [Read more...]

ऊपर