डर को पीछे छोड़ बड़ाबाजार में आगे बढ़ने लगे हैं व्यवसायी

 

 

कोलकाता : बड़ाबाजार में यूं तो कोरोना वायरस ने लोगों को खूब आतंकित किया, मगर अब समय के साथ-साथ व्यवसायी डर को पीछे छोड़ आगे बढ़ने लगे हैं। सभी दुकानें भी खुल गयी हैं और ग्राहक भी थोड़े-बहुत आ रहे हैं। वृहत्तर बड़ाबाजार की बात करें तो कुल कंटेनमेंट जोन की संख्या यहां 34 है। वहीं स्थानीय पार्षदों का कहना है कि कई इलाके कोरोना मुक्त हो गये हैं, लेकिन अब भी कंटेनमेंट जोन में हैं। वहीं व्यवसायियों की उम्मीदें भी अब जागने लगी हैं।
क्या हाल है इलाकों का
यहां परिस्थितियां स्वाभाविक के समान ही दिखीं। चाहे बड़ाबाजार का 20 नं. वार्ड हो या फिर 22, 23, 24, 42 व अन्य वार्ड इलाके ही क्यों ना हो, सभी जगहों पर ही दुकानें खुल गयी हैं। ग्राहक भी दिखे, पहले की तुलना में कुछ कम ग्राहक आ रहे हैं मगर कोरोना का आतंक कुछ कम जरूर हुआ है। हालांकि सोशल डिस्टेंसिंग कहीं नहीं दिखी और कई लोगों के चेहरों पर मास्क भी नहीं दिखायी दिये।
व्यवसायियों ने कहा, ट्रेनें हो चालू
सर हरिराम गोयनका स्ट्रीट में कुछ व्यवसायियों से बात करने पर पता चला कि वहां हर रोज ही सभी दुकानें खुल रही हैं। ऑड-इवन जैसी कोई बात यहां नहीं है। बड़ाबाजार में व्यवसायियों ने कहा कि अब सरकार को जल्द से जल्द ट्रेनें चालू करने की व्यवस्था करनी चाहिए। अगर ट्रेनें ही चालू नहीं होंगी तो हम दुकानें खोलकर भला क्या करेंगे। जब तक ग्राहक नहीं आयेंगे तो अर्थव्यवस्था पटरी पर कैसे लौटेगी।
किस वार्ड में कितने माइक्राे कंटेनमेंट
वार्ड 23-13, वार्ड 20-2, वार्ड 24-7, वार्ड 42-4, वार्ड 21-6, वार्ड 43-1, वार्ड 45-1। बड़ाबाजार के माइक्रो कंटेनमेंट सिकदर पाड़ा सेकेंड लेन, बड़तल्ला स्ट्रीट, बैद्यनाथ मल्लिक लेन, वृंदावन बसाक स्ट्रीट, गोपी कृष्ण पाल लेन, काली कृष्ण टैगोर स्ट्रीट, रवींद्र सरणी, रूपचंद राय स्ट्रीट, नारायण प्रसाद बाबू लेन, एमजी रोड, हरालाल दास लेन, एमडी रोड, दर्प नारायण टैगोर स्ट्रीट, ताराचंद दत्त स्ट्रीट, गार्स्टिन प्लेस।

शेयर करें

मुख्य समाचार

कोरोना की उत्पत्ति का पता लगाने चीन जाएंगे डब्ल्यूएचओ के विशेषज्ञ

बीजिंग : विश्व स्वास्थ्य संगठन के दो विशेषज्ञ कोविड-19 वैश्विक महामारी की उत्पत्ति का पता लगाने के एक बड़े अभियान के तहत जमीनी काम पूरा आगे पढ़ें »

ओडिशा ने नक्सल एसआरई योजना से पांच जिलों को हटाया

भुवनेश्वर : ओडिशा सरकार ने पांच जिलों को वामपंथी अतिवाद से प्रभावित सुरक्षा संबंधित व्यय (एसआरई) योजना से हटाने को मंजूरी दे दी है। एक आगे पढ़ें »

ऊपर