जीवन में हमेशा अच्छे लोगों के संग रहे- बाल व्यास

कोलकाता : आनंदलोक के कर्णधार डी के सराफ द्वारा संकल्पित 108 भागवत पाठ के अंतिम चरण यानी कि आखिरी पाठ का शुभारंभ बुधवार को साल्टलेक स्थित मेवाड़ बैंक्वेट में हुआ। 7 दिवसीय इस श्रीमद्भागवत कथा के साथ ही डी के सराफ के 108 भागवत पाठ का संकल्प पूरा हो जायेगा। इस पावन मौके पर त्रिपुरा के राज्यपाल श्री तथागत राय मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित थे। ढाई साल पहले शुरू हुई अपनी इस भागवत कथा की यात्रा पर डी के सराफ ने कहा ‘संकल्प काफी असंभव सा था। लोगों ने मुझे पागल कहा। करोड़ों का खर्च था और ढलती उम्र थी लेकिन मैंने हिम्मत से काम लिया। भगवान बेड़ियां खोलते गये और काम होता गया।’ इस दौरान ही उन्होंने अगले 108 भागवत पाठ की भी घोषणा कर दी। व्यासपीठ पर विराजित कथा वाचक परमपूज्य पं श्रीकांत शर्माबाल व्यास ने मानव जीवन में सन्मार्ग के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि सत्य से ही भागवत का प्रारम्भ होगा। हम जीवन में सत्य का अनुशीलन करें। संतों के मार्गदर्शन में अपने जीवन को जीएं। उन्होंने कहा कि अच्छे व्यक्ति का साथ एक जानवर को भी इंसान बना सकता है जबकि एक बुरे व्यक्ति का साथ इंसान को जानवर, इसलिए जीवन में हमेशा अच्छे लोगों के संग में रहना चाहिए। वहीं भागवत पाठ के लिए वृंदावन से पधारे पं मृदुलकांती शास्त्री ने भी जीवन में संतों के संग और सत्य मार्ग पर चलने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर उपस्थित त्रिपुरा के राज्यपाल तथागत राय ने आनंदलोक और डी के सराफ के प्रयासों की सराहना की। उन्होंने कहा मैं पहले विश्वास नहीं कर पाता था कि कोई व्यक्ति अपना पूरा जीवन समाजसेवा में लगा दे लेकिन आनंदलोक और डी के सराफ के बारे में जानने के बाद मुझे अपना विचार बदलना पड़ा। उन्होंने कहा कि मैं आनंदलोक के आमंत्रण पर उनके कार्यक्रम में उपस्थित होने की पूरी कोशिश करता हूं और आगे भी करता रहूंगा। कार्यक्रम में विशेष अतिथि के तौर पर ‌उपस्थित राज्यसभा के पूर्व सांसद विवेक गुप्ता ने भी आनंदलोक और डी के सराफ द्वारा किये जा रहे समाज सेवा कार्यों की सराहना की। कार्यक्रम में प्रधान अतिथि के तौर पर मुरारीलाल दीवान, सम्मानीय अतिथि के तौर पर तिलोक चंद डागा, चम्पालाल सरावगी, रविंद्र अग्रवाल, बृजमोहन गाड़ोदिया, गौरीशंकर सराफ, रमेश नांगलिया सहित कई गण्यमान्य लोग उपस्थित थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

जनजातियों की कला-संस्कृति, परंपरा एवं रीति-रिवाज समृद्ध : द्रौपदी मुर्मू

रांची : झारखंड की राज्यपाल सह कुलाधिपति द्रौपदी मुर्मू ने शुक्रवार को कहा कि जनजातियों की कला, संस्कृति, लोक साहित्य, परंपरा एवं रीति-रिवाज समृद्ध रही आगे पढ़ें »

अत्यधिक प्रोटीन लेना हो सकता है जानलेवा: रिपोर्ट

नई दिल्ली : स्वस्थ रहने की बात हो तो सबसे पहले प्रोटीन लेने की सोचते हैं। प्रोटीन से मांसपेशियां मजबूत होती है और साथ ही आगे पढ़ें »

ऊपर