चाहे कुछ भी कर लो, बनेगी भाजपा की सरकार

बाबुल ने कहा, ‘भाई शुभेंदु के कहने पर आया’
खड़गपुर/कांथी : केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो और भाजपा के वरिष्ठ नेता शुभेन्दु अधिकारी ने राज्य में इस बार भाजपा की सरकार बनाए जाने को लेकर पूर्व मिदनापुर में जबर्दस्त हूंकार लगायी है। सूताहाटा में शनिवार को भाजपा की ओर से आयोजित योगदान मेले में शुभेन्दु अधिकारी व बाबुल सुप्रियो ने विधानसभा चुनाव में टीएमसी को हराकर राज्य में भाजपा की सरकार बनाने की हूंकार लगायी।
मंगलवार को सूताहाटा ब्लाॅक के द्वारीबेड़िया में योगदान मेले में विभिन्न पार्टियों से कई लोग भाजपा में शामिल हुए। शुभेन्दु अधिकारी ने कहा कि वर्ष 2001 में यहां टीएमसी का झंडा लगाने वाला भी कोई नहीं था, लेकिन वह और बाबुल यहां आएंगे यह जानकार टीएमसी के लोगों ने काफी संख्या में अपनी पार्टी का झंडा भी लगा दिया है। उन्होंने कहा कि 15 मई के बाद इन्हीं सब लोगों को साथ में लेकर चलना होगा क्योंकि उसके बाद टीएमसी की सरकार नहीं रहेगी। टीएमसी पार्टी कोई राजनीतिक पार्टी नहीं होकर कंपनी में तब्दील हो गयी है। उन्होंने कहा कि हम लोगों को कर्मचारी के समान रखने की कोशिश की गयी थी, लेकिन मिदनापुर के लोग किसी का कर्मचारी बन कर रहना जानते ही नहीं हैं। शुभेंदु अधिकारी ने अभिषेक बंद्योपाध्याय का नाम न लेते हुए उन पर तंज कसा तथा कहा कि तोलाबाज भाइपो ने एक दिन कहा था कि यदि मुझमें साहस है, तो मैं कोई आंचलिक पार्टी बनाकर दिखाऊं। यदि मैं आंचलिक पार्टी बनाता तो मेरे बाद कोई भाईपो इसका नेता होता, इसलिए उन्होंने कोई आंचलिक पार्टी नहीं बनायी। विनय मिश्रा के घर में सीबीआई की छापेमारी पर उन्होंने कहा कि कोलकाता में उसके 4 मकान हैं तथा वह राज्य युवा टीएमसी का महासचिव भी है। युवा टीएमसी के अध्यक्ष का नाम तोलाबाज भाइपो है। इधर, केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने शुभेंदु अधिकारी को भाई बताते हुए कहा कि उनके कहने पर ही आया हूं। उन्होंने कहा कि यहां आकर पाप का प्रायश्चित तो करना ही था क्याेंकि पिछली बार यहां मैं लखन सेठ के लिए आया था। बाबुल ने कहा कि शुभेंदु अधिकारी को कोई शिशिर अधिकारी का बेटा नहीं कहता, केवल शुभेंदु अधिकारी के नाम से उन्हें सभी जानते हैं। नंदीग्राम आंदोलन की शुरुआत से शुभेंदु अधिकारी जुड़े हुए हैं। लोग हमारे साथ हैं और बंगाल में सरकार बदलने की ओर हम कदम बढ़ा चुके हैं। सभा में शुभेंदु अधिकारी के अलावा भाजपा के अन्य नेता मौजूद थे।

शेयर करें

मुख्य समाचार

गणतंत्र दिवस: पहली परेड कब हुई थी? जानिए ऐसे सवालों के जवाब

गणतंत्र दिवस क्या है और ये क्यों मनाया जाता है? भारत 15 अगस्त 1947 को आज़ाद हुआ था और 26 जनवरी 1950 को इसके संविधान को आगे पढ़ें »

जानें मंगलवार के दिन किस उपाय को करने से मिलता है क्या लाभ

कोलकाता : मंगलवार का दिन बजरंगबली को समर्पित होता है। हनुमान जी एक ऐसे देवता हैं जिनकी पूजा में सावधानी बहुत जरूरी है। मंगलवार को आगे पढ़ें »

ऊपर