चर्चा हुई शुरू, कौन होगा विपक्ष का चेहरा ?

कोलकाता : जनता का फैसला आ चुका है। भाजपा में अब सीएम या डिप्टी सीएम तो नहीं, लेकिन विपक्ष का नेता कौन होगा, इस पर चर्चा जरूर चालू हो गयी है। भाजपा ने इस बार के विधानसभा चुनाव में 77 सीटें हासिल की है जबकि वाममोर्चा और कांग्रेस का सूपड़ा साफ हो गया है। ऐसे में तृणमूल के सामने अब भाजपा ही मुख्य विपक्षी पार्टी के तौर पर उभरी है ​जिस कारण विपक्ष का नेता चुनने पर भी चर्चा चालू हो गयी है।
इतिहास में पहली बार बंगाल में विपक्ष बनी भाजपा
पश्चिम बंगाल के राजनीतिक इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि भाजपा किसी विधानसभा चुनाव में मुख्य विपक्षी पार्टी के तौर पर उभरी हो। अभी तक ममता बनर्जी या फिर वाम व कांग्रेस के नेता ही विपक्ष की भूमिका निभाते आ रहे थे, लेकिन यह पहला मौका होगा जब भाजपा को विपक्ष की भूमिका निभानी है। वर्ष 2016 के विधानसभा चुनाव में पार्टी के पास केवल 3 सीटें थीं, लेकिन इस बार 77 सीटों के साथ पार्टी विपक्ष की भूमिका निभायेगी।
विधानसभा में नहीं रहेगा वाम व कांग्रेस का कोई नेता
इस बार पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में कई इतिहास बने हैं। एक इतिहास यह भी होगा कि विधानसभा में पहली बार वाममोर्चा या कांग्रेस का एक भी नेता मौजूद नहीं रहेगा। केवल भांगड़ की सीट से जीतने वाले आईएसएफ के नौशाद सिद्दिकी ही विधानसभा में संयुक्त मोर्चा का प्रतिनिधित्व करेंगे। वहीं एक तरफ तृणमूल के विधायक सत्ताधारी पार्टी तो दूसरी ओर भाजपा विधायक मुख्य विपक्षी पार्टी के तौर पर विधानसभा में आयेंगे।
शुभेंदु या मुकुल, दोनों ही नाम हैं दौड़ में
भाजपा के वरिष्ठ नेता शुभेंदु अधिकारी ने नंदीग्राम में ममता बनर्जी को मात दी तो वहीं कृष्णानगर उत्तर से मुकुल राय ने जीत हासिल की। इन दोनों के अलावा भाजपा के लगभग सभी हेवीवेट उम्मीदवार चुनाव में हार गये हैं। ऐसे में माना यह जा रहा है कि इन दोनों में से किसी एक को विपक्षी दल का नेता चुना जा सकता है। मुकुल राय को पहले ही राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का पद दिया गया है, ऐसे में चर्चा जोरों पर है कि ममता बनर्जी को हराने के बाद शुभेंदु को विपक्ष का नेता बनाया जाये। इस बारे में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि समय ही बतायेगा कि किसे विपक्ष का नेता चुना जायेगा।
क्या भूमिका होती है विपक्षी दल के नेता की
विपक्ष का नेता विधानसभा में जनता की आवाज को बुलंद करता है। जनता से जुड़े मुद्दों को विधानसभा में उठाना ही विपक्षी दल के नेता की मुख्य भूमिका होती है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

एक महिला को गलती से 6 बार लगी कोरोना की वैक्सीन, जानिए उसके साथ क्या हुआ

टस्कनीः इटली में एक महिला को Pfizer की कोरोना वायरस वैक्सीन की 6 खुराकें लगा दी गईं। एक खुराक की जगह पूरी एक बोतल वैक्सीन लगने के आगे पढ़ें »

दिल्ली के कोरोना आंकड़ों ने फिर दी राहत 26 दिनों बाद इतना कम पॉजिटिविटी रेट

नई दिल्ली : राजधानी दिल्ली में पिछले 24 घंटों में 12 अप्रैल से अब तक सबसे कम कोरोना के मामले सामने आए हैं l मंगलवार आगे पढ़ें »

ऊपर