चंदननगर की डिप्टी मजिस्ट्रेट का कोरोना से निधन

हुगली : दूसरों को कोरोना के पंजे से बचाते हुए खुद अपनी जान को कुर्बान करने वाली कोरोना योद्धा का नाम चंदननगर की डिप्टी मजिस्ट्रेट देवदत्ता रॉय (37) हैं, जिन्होंने कोरोना से जंग लड़ते हुए श्रीरामपुर के श्रमजीवी अस्पताल में दम तोड़ दिया। प्रशासन सूत्रों के अनुसार, उन्हें बुखार व सांस में तकलीफ के कारण रविवार को कोविड अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहां उनकी सोमवार को मौत हो गई। बताया जा रहा है कि देवदत्ता रॉय मूलतः उत्तर 24 परगना जिले के दमदम की रहने वाली थीं, लेकिन फिलहाल वह श्रीरामपुर में एक किराए के मकान में रह रही थीं।
लड़ाई में हर मोर्चे पर सक्रिय भूमिका निभायी
देवदत्ता रॉय कोविड-19 की लड़ाई में शुरू से ही सक्रिय थीं। चाहे वह चंदननगर के विभिन्न कंटेनमेंट जोन में देखरेख का जिम्मा हो या अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी भारतीयों को सही तरीके से क्वॉरंटाइन करके उनकी घर वापसी को सुनिश्चित करना। उन्होंने कोविड-19 की लड़ाई में हर मोर्चे पर सक्रिय भूमिका निभायी।
देवदत्ता रॉय ने कायम की मिसाल : राज्य मंत्री
डिप्टी मजिस्ट्रेट देवदत्ता रॉय के निधन पर शोक प्रकट करते हुए राज्य के मंत्री और चंदननगर के विधायक इंद्रनील सेन ने कहा कि उनकी मौत से सरकार और प्रशासन को बहुत क्षति हुई है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान अपने कर्तव्यों का निर्वाह करते हुए देवदत्ता रॉय ने जो मिसाल कायम की है वह हम सभी के लिए अनुकरणीय है।
घटना के बाद पूरा चंदननगर एसडीओ कार्यालय सील
घटना के प्रकाश में आने के बाद पूरे चंदननगर एसडीओ कार्यालय को सील कर दिया गया। प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग की तरफ से चंदननगर के एसडीओ कार्यालय को पूरी तरह से सैनिटाइज किया गया है। देवदत्ता रॉय के आकस्मिक निधन से प्रशासनिक हलकों के साथ-साथ चंदननगर के आम नागरिकों में भी शोक का माहौल है। चंदननगर वासियों के अनुसार देवदत्ता राय एक मेहनती, कर्तव्यपारायण और हमदर्द ऑफिसर थीं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

केरल विमान दुर्घटना में घायल 85 यात्रियों को अस्पताल से मिली छुट्टी : एअर इंडिया एक्सप्रेस

नयी दिल्ली : एअर इंडिया एक्सप्रेस ने बुधवार को कहा कि कोझिकोड में विमान दुर्घटना में घायल 85 लोगों को ठीक होने के बाद विभिन्न आगे पढ़ें »

बस वालों ने खुद ही बढ़ा लिया किराया !

कोलकाता : राज्य सरकार ने किसी भी तरह की बस किराये में बढ़ोतरी नहीं की है मगर अधिकांश बस वालों ने मनमाना भाड़ा बढ़ा दिया आगे पढ़ें »

ऊपर