घुसुड़ी से लेकर चाड़ा तक की सड़क दे रही है ‘मौत’ को दावत

हावड़ा : हावड़ा की सड़कों का नाम सुनते ही मानो रूह सी कांप उठती है, रोजाना गुजरनेवाले लोगों की, क्योंकि इन सड़कों से गुजरने का मतलब है जान की बाजी लगाकर चलना। ये सड़कें किसी के लिए भी किसी रोलर कोस्टर से कम नहीं हैं। हाल ही में हो रहे लगातार बारिश ने रोड को किसी मौत की सड़क से कम नहीं बनाया है। घुसुड़ी से लेकर चाड़ा तक सड़कों पर गड्ढे ज्यादा है और रोड कम है। मौत को दावत दे रही हैं सड़कें
घुसुड़ी इलाका जो कि एक इंडस्ट्रियल हब है और यहां के गिरीश घोष रोड व बनारस रोड की सड़कों पर रोजाना सैकड़ों ट्रक आवाजाही करते हैं। लोगों का आरोप है कि यहां सड़क पर गड्ढे नहीं बल्कि गड्ढ़ों में सड़क दिखाई देती है। खासकर चाड़ा की सड़कें तो खुल्लम-खुल्ला मौत को दावत दे रही हैं। कई बार सड़क दुर्घटनाएं हुई हैं।
चाढ़ा की सड़क के लिए सितम्बर तक का इंतजार
घुसुड़ी के चाढ़ा की सड़क की मरम्मत के लिए सितम्बर के मध्य तक इंतजार करना होगा। निगम की ओर से कहा गया कि इस समय सड़क की मरम्मत करना बहुत ही मुश्किल है। बारिश में वह काम पूरा धूल जायेगा। इस लिए अभी इंतजार करना ही ठीक है। वहीं छोटी सड़कों का काम तो बारिश के बाद ही संभव है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बेदम रही टैक्सी हड़ताल, पर संगठन ने आस नहीं छोड़ी

कोलकाता : एटक समर्थित वेस्ट बंगाल टैक्सी ऑपरेटर कोआर्डिनेशन कमेटी ने अपनी मांगों को लेकर सोमवार को टैक्सी हड़ताल का  आह्वान किया था। हालांकि हड़ताल आगे पढ़ें »

जीएसटी क्षतिपूर्ति के लिए इंतजार करना पड़ सकता है पश्चिम बंगाल को

  नई दिल्ली : 5 अक्टूबर को जीएसटी काउंसिल की बैठक है | कोरोना संकट के बीच जीएसटी मुआवजे के मुद्दे पर केंद्र सरकार की कर्ज आगे पढ़ें »

ऊपर