घाटाल कॉलेज में तृणमूल और एबीवीपी में संघर्ष, 10 घायल

मिदनापुर : पश्चिम मिदनापुर के घाटाल स्थित रवींद्र शतवार्षिकी महाविद्यालय में गुरुवार की सुबह भाजपा के छात्र संगठन एबीवीपी और तृणमूल छात्र संगठन टीएमसीपी के सदस्यों के बीच संघर्ष हो गया जिस कारण दोनों पक्षों के लगभग 10 लोग घायल हो गये। स्थिति को नियंत्रित करने के लिये पुलिस द्वारा लाठियां चलाये जाने का आरोप है।
रवींद्र शतवार्षिकी महाविद्यालय में कुछ दिनों पहले ही भाजपा के छात्र संगठन एबीवीपी का उत्थान हुआ है। वहां पर एबीवीपी की ओर से पार्टी के झंडे लगाये गये जिसके बाद से कॉलेज में राजनीतिक उत्तेजना फैलने लगी। एबीवीपी की ओर से आरोप लगाया गया है कि टीएमसीपी समर्थकों ने बाहर से लोगों को लाकर कॉलेज में रखा था। एबीवीपी के नेता सायन सेनगुप्त का आरोप है कि गुरुवार की सुबह टीएमसीपी समर्थकों ने एबीवीपी के झंडे फाड़कर फेंक दिये और उसका विरोध जताने के लिये वह लोग कॉलेज अध्यक्ष के पास गये थे। उनका आरोप है कि कॉलेज के अध्यक्ष से मुलाकात कर वापस आते समय टीएमसीपी समर्थकों ने अचानक हमला कर दिया। आरोप है कि एबीवीपी सदस्यों की मोटर साइकिलों में तोड़फोड़ की गयी और सदस्यों को मारा-पीटा गया। दोनों छात्र संगठनों के बीच संघर्ष की घटना में कॉलेज के जीएस और स्थानीय तृणमूल विधायक शंकर दोलई का बेटा तुफान दोलई भी घायल हो गया। तुफान दोलई का आरोप है कि वह जैसे ही मोटर साइकिल लेकर कॉलेज के सामने पहुंचा तो अचानक एबीवीपी समर्थकों ने उस पर हमला कर दिया। घाटाल के एसडीपीओ कल्याण सरकार विशाल पुलिस बल के साथ कॉलेज पहुंचे और स्थिति को नियंत्रित करने के लिये पुलिस को लाठी चलानी पड़ी। पुलिस सूत्रों के अनुसार घटना के सबंध में दोनों पक्षों के 3 लोगों को हिरासत में लिया गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

सोनम वांगचुक के चीनी उत्पादों के बहिष्कार अभियान को व्यापारियों का मिला समर्थन

नई दिल्ली : कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि देश के सात करोड़ व्यापारी लद्दाख के शैक्षिक सुधारक सोनम वांगचुक के आगे पढ़ें »

पूर्व पाक कप्तान हनीफ का दावा, 1983 में हॉकी टीम के सदस्‍य तस्‍करी में लिप्‍त थे 

कराची : पाकिस्तान के पूर्व हॉकी कप्तान हनीफ खान ने आरोप लगाया कि 1983 में हांगकांग से वापस आते समय उनकी टीम के कुछ खिलाड़ियों आगे पढ़ें »

ऊपर