खतरों से खेल रहे हैं बड़ाबाजार के जर्जर मकान के सैकड़ों लोग

कोलकाता : बड़ाबाजार के शिवतल्ला स्ट्रीट में मकान ढहने से हुई 3 लोगों की मौत की घटना को 24 घंटे से अधिक हो गये हैं, लेकिन बड़ाबाजार के लोग कोई सबक सीखने को तैयार नहीं हैं। आलम यह है कि अभी बड़ाबाजार के सैकड़ों जर्जर मकानों में लोग जान जोखिम में डाल कर रह रहे हैं। खासतौर पर बड़ाबाजार के बड़तल्ला स्ट्रीट, शिव ठाकुर लेन एवं शिवतल्ला स्ट्रीट में अभी भी कई जर्जर मकान हैं जहां लोग रहने को मजबूर हैं। ऐसा ही एक जर्जर मकान 7, शिव ठाकुर लेन में है। उक्त मकान के ग्राउंड फ्लोर में अभी भी कई ऐसी दुकानें हैं जहां गहने बनाये जाते हैं। स्थानीय लोगों की मानें तो निगम की ओर से कई साल पहले ही उक्त मकान को जर्जर घोषित कर दिया गया था, लेकिन व्यवसायी अपने फायदे को देखते हुए वहां पर काम कर रहे हैं। यही नहीं वह उन दुकानों में काम करने वाले कारीगरों का जीवन भी दांव पर लगा रहे हैं। स्थानीय सूत्रों के अनुसार, किरायेदारों व मकान मालिकों के बीच विवाद होने के कारण उक्त मकान का निर्माण नहीं हो पा रहा है। कुछ ऐसा ही हाल 7 नं. बड़तल्ला स्ट्रीट स्थित मकान का भी है। इस मकान के सड़क की ओर ग्राउंड फ्लोर में अभी भी कई दुकानें चल रही हैं। वहीं मकान के अंदर अभी भी 2 परिवार रहते हैं। मकान में दुकान चलाने वाले एक व्यक्ति ने कहा कि उक्त मकान के मालिक 5 भाई हैं। उनमें से तीन भाइयों में विवाद के कारण मकान का निर्माण नहीं हो पा रहा है। इसी के चलते मकान का भविष्य भी अधर में लटका हुआ है। स्थानीय लोगों की मानें तो अगर समय रहते मकान का निर्माण नहीं कराया गया तो आने वाले दिनों में इसके गिरने से सैकड़ों लोगों की जान जा सकती है। लोगों के अनुसार, यह मकान हावड़ा ब्रिज से सत्यनारायण पार्क पैदल आने वाले लोगों द्वारा इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे में अगर कभी दिन के समय में मकान गिरा तो कोई बड़ी दुर्घटना भी घट सकती है। इस कारण सरकार को समय रहते कदम उठाने की जरूरत है। कोलकाता नगर निगम की ओर से मकान के ऊपर खतरनाक का बोर्ड भी लगा दिया गया है। 7 नं. के अलावा बड़तल्ला स्ट्रीट में और भी कई मकान मौजूद हैं जिसे निगम ने खतरनाक घोषित कर दिया है लेकिन लोग जान-बूझकर वहां रहते हैं। हालांकि सुनसान पड़े 16, शिवतल्ला स्ट्रीट स्थित मकान को तोड़ने का काम दोपहर से शुरू किया गया। बगल की इमारत में रहने वाली मीना देवी ने बताया कि उनकी मकान की हालत काफी खराब है। मकान मालिक उन लोगों की बात नहीं सुन रहे हैं। अब उन्हें चिंता सता रही है कि कहीं किसी रोज उनके परिवार का हाल भी तारा प्रसन्न की तरह न हो जाए।

‘आपकी जान से ज्यादा कीमती नहीं हैं जर्जर मकान’

बड़ाबाजार के शिवतल्ला स्ट्रीट में तीन मं​जिला मकान गिरने के कारण तीन लोगों की मौत हो गयी थी। कोलकाता नगर निगम के मासिक अधिवेशन में इस विषय पर चर्चा हुई। कोलकाता नगर निगम के मेयर शोभन चटर्जी ने उक्त घटना पर संवेदना व्यक्त करते हुए कहा उन्हें मकान गिरने और तीन लोगों की मौत का बहुत दुख है। साथ ही उन्होंने इस प्रकार की घटनाएं दोबारा न हों इसके लिए भी कई योजनाएं तैयार की हैं। मेयर ने कहा कि निगम और राज्य सरकार इस विषय पर बहुत गंभीर है। इससे पूर्व भी कई पूराने मकान गिरते थे लेकिन मानविक कारणों का हवाला देकर कोई कार्रवाई नहीं होती थी। हमारी वर्तमान राज्य सरकार ने नियम में बदलाव किया जिसके द्वारा निगम खतरनाक मकानों पर कार्रवाई कर सकता है। निगम ने इन खतरनाक मकानों को चिह्नित कर उनके सामने होर्डिंग लगाने का काम किया और नोटिस भी भेजी लेकिन फिर भी लोग अपना मकान खाली नहीं कर रहे हैं। मेयर ने कहा कि लोगों को समझना होगा की ये जर्जर हो चुके मकान उनकी जान से ज्यादा कीमती नहीं हैं। निगम मकान मालिकों की हरसंभव मदद करने को तैयार है। खतरनाक मकानों के स्थान पर नये मकान कानून के अनुसार बनेगा और इसमें मकान मालिक और किरायेदारों के हितों का भी ख्याल रखा जाएगा। प्रमोटरों द्वारा एक निश्चित समय में मकान तैयार कर मकान मालिकों को सौंप दिया जाएगा। साथ ही मेयर ने यह भी कहा की 1 से लेकर 144 वार्ड तक के प्रत्येक वार्ड के पार्षद और बोरो चेयरमैन को अपने इलाके के सभी खतरनाक मकानों को चिह्नित कर निगम के बिल्डिंग डिपार्टमेंट में देना होगा। पार्षदों को लोगों को यह समझाना होगा कि वे घर खाली कर दें और अगर वे एेसा नहीं करते तो उन्हें बताएं कि यह कानून के अंतर्गत है, उन्हें मकान खाली करना होगा। मेयर ने सभी पार्टियों से राजनीति से ऊपर उठ कर इस मुद्दे पर काम करने को कहा। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि मकान मालिक और किरायेदारों के पुनर्वासन पर चर्चा चल रही है और इसके तहत एक स्कीम बनायी गयी है।

मुख्य समाचार

Arvind Kejriwal, Manish Sisodia

केजरीवाल और सिसोदिया को आपराधिक मानहानि मामले में मिली जमानत

नई दिल्ली : आपराधिक मानहानि के मुकदमें में मंगलवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री (सीएम) अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को दिल्ली की राउज आगे पढ़ें »

Varanasi-Patalpuri- Guru Purnima-muslim women worshiped mahant

वाराणसी में गुरू पूर्णिमा के दिन मुस्लिम महिलाओं ने उतारी महंत की आरती

वाराणसी : धर्म की नगरी वाराणसी में गुरू पूर्णिमा के दिन मुस्लिम महिलाओं ने अपने गुरु पीठाधीश्वर महंत बालक दास की पूजा-आरती कर सामाजिक एकता आगे पढ़ें »

कुलभूषण जाधव मामले में बुधवार को फैसला सुनाएगी आईसीजे

द हेग : अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत (आईसीजे) भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव से जुड़े मामले में बुधवार को अपना फैसला सुनाएगी। पाकिस्तान की एक सैन्य अदालत आगे पढ़ें »

रवि शास्त्री के दिन पूरे, नया कोच ढूंढ रहा बीसीसीआई

कोच और सपोर्ट स्टाफ का कार्यकाल खत्म हाे चुका है नई दिल्लीः भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने भारतीय टीम के नए कोच और सपोर्ट स्टाफ आगे पढ़ें »

amitabh in gulabo sitabo

प्रोस्थेटिक लगाने से परेशान हुए ये अभिनेता, साझा की तकलीफ

मुंबई : ‌फिल्मों में खुद को किरदार में पूरी तरह ढाल लेने वाले बॉलीवुड के महानायक अमिताभ बच्चन इन दिनों अपने लुक्स में प्रोस्थेटिक को आगे पढ़ें »

kareena kapoor khan left dancing show

‘डांस इंडिया डांस 7’ से फिर करीना हुई गायब, दिखेंगी ये अभिनेत्री

मुंबईः शो 'डांस इंडिया डांस' के सातवें सीजन में करीना कपूर खान के बदले उनकी सबसे प्रिय सहेली मलाइका अरोड़ा नजर आयेंगी। दरअसल, करीना काफी आगे पढ़ें »

काउंटी क्रिकेट में अश्‍विन का बोलबाला, एक ही मैच में लिए 12 विकेट और 93 रन जड़े

विंडीज दौरे के लिए चयनकर्ताओं की नजर इन पर पड़ सकती है नई दिल्लीः विश्व कप के बाद लगभग सभी भारतीय खिलाड़ी भारत लौट चुके हैं। आगे पढ़ें »

चीन का नं. 1 डिजिटल एक्सेसरी ब्रांड बेसियस ने भारत में प्रवेश किया, 2020 के अंत तक 5-7 प्रतिशत हिस्सेदारी»

नई दिल्ली : चीन के नं. 1 डिजिटल एक्सेसरी ब्रांड बेसियस ने एक्सेसरी की पूरी श्रृंखला के साथ भारत में प्रवेश करने की घोषणा की। आगे पढ़ें »

Students imitating the exam

गुजरात बोर्ड में सामने आया सामूहिक नकल का मामला, सैकड़ों छात्रों ने लिखा एक ही जवाब

अहमदाबाद : गुजरात में बोर्ड की परीक्षा में एक ऐसे सामूहिक नकल का मामला सामने आया है जिसे सुनकर लोग हैरान हैं। वहीं गुजरात सेकेंडरी आगे पढ़ें »

इस क्षेत्र में चीन से बहुत पीछे हैं भारत

नई दिल्ली : बेहतर उपज के लिए फसलों की सुरक्षा करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि इससे किसानों को बढ़िया रिटर्न्स मिलेंगे। हालांकि किसानों की आमदनी को आगे पढ़ें »

ऊपर