कोरोना जंग : हावड़ा नगर निगम अपनाएगा दक्षिण कोरिया मॉडल

संक्रमण रोकने के लिए हावड़ा में ज्वाइंट ऑपरेशन टीम : धवल जैन
मेघा सुरोलिया, हावड़ा : हावड़ा जिले में कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए प्रशासन लगातार प्रयासरत है। अब इस जंग से लड़ने के लिए हावड़ा नगर निगम ने दक्षिण कोरिया के मॉडल को अपनाया है और इसके तहत हावड़ा में ज्वाइंट ऑपरेशन टीम का गठन किया गया है। राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गत 17 अप्रैल को घोषणा की थी कि हावड़ा को रेड जोन से ओरेंज जोन में लाना होगा लेकिन हावड़ा की तस्वीर कुछ उल्टी ही नजर आ रही है। यहां पर देखा जाए तो गैर सरकारी आंकड़ों के अनुसार अब तक कोरना से मृतकों की संख्या 16 हो चुकी है, वहीं संक्रमित 216 लोग बताए जा रहे हैं। इसे लेकर नगर निगम काफी चिंतित है, ऐसे में कार्यभार संभालते ही हावड़ा नगर निगम के नए प्रशासक धवल जैन ने ज्वाइंट ऑपरेशन टीम तैयार किया है। उन्होंने सन्मार्ग काे बताया कि यह ऑपरेशन टीम एक इलाके में 3 स्टेप में काम करती है। पहला लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग जिसमें थर्मल गन के द्वारा लोगों का तापमान मापा जाता है। दूसरा यह है कि तापमान मापने के दौरान अगर किसी व्यक्ति को बुखार या अन्य ऐसे लक्षण दिखाई देते हैं जो कि कोरोना वायरस संबंधित हो तो उनका स्वैब टेस्ट यानी लार संग्रह किया जाता है। इसके अलावा तीसरा इलाके का सैनिटाइजेशन। स्वास्थ्य कर्मी हैंड सैनिटाइजर के द्वारा इलाके के गली-गली में सैनिटाइज करते हैं। उक्त दोनों प्रक्रिया के बाद पूरे इलाके का सैनिटाइज कराया जाता है । प्रशासक ने बताया कि इन तीनों स्टेप में हम लोग इलाके को जीवाणु मुक्त बनाने का प्रयास कर रहे हैं। पहले लोगों की जांच की जाती है, दूसरा टेस्ट किए जाते हैं और तीसरा वहां से जीवाणुओं को नष्ट किया जाता है। ऐसे में लोग संतुष्ट हो जा रहे हैं कि एक ही बार में उनकी पूरी जांच प्रक्रिया हो गई। उन्होंने बताया कि पहला चरण सनातन मिस्त्री लेन था लेकिन अब दूसरा इलाका हरिजन बस्ती है। नगर निगम ने इस प्रक्रिया को अपनाया है।
बताया जाता है कि रविवार को कदमतला इलाके में एक व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाया गया। इसके बाद से ही वहां हरिजन बस्ती को घेर दिया गया है। पूरे इलाके को सैनिटाइज कराया गया। वहीं रामराजातला के शष्टितल्ला इलाके में भी एक और व्यक्ति संक्रमित पाया गया। नगर निगम के सूत्रों के अनुसार ज्वाइंट एक्शन टीम ने पहले दिन से ही काम करना शुरू कर दिया है। टीम का पहला पड़ाव उड़ियापाड़ा के सनातन मिस्त्री लेन में थर्मल स्क्रीनिंग करना एवं लोगों की लार के नमूने संग्रह करना था। इसके साथ ही इलाके में सैनिटाइजेशन का काम भी किया जा रहा है। संक्रमण किसी को देखकर नहीं आता है ऐसे में बस्ती इलाकों को मुख्य रूप से चुना गया है। ऐसा पहली बार हुआ है कि दक्षिण कोरिया के बाद हावड़ा में इस मॉडल को अपनाया जा रहा है। गौरतलब है कि कोरोना के फैलते संक्रमण के कारण हावड़ा, मालीपांचघड़ा, गोलाबाड़ी, शिवपुर इलाके के सभी बाजारों को भी बंद कर दिया गया है। बेंटरा, चटर्जीहाट व रामराजातला इलाके में भी सारे बाजार बंद है। संक्रमण को रोकने के लिए सब्जी वालों को ठेले के जरिए गलियों में भेजा जा रहा है।
थ्री टी फॉर्मूले पर काम करता है दक्षिण कोरिया मॉडल
दक्षिण कोरिया मॉडल के अनुसार थ्री टी के तहत काम करता है। यह तीन टी ट्रेस,टेस्ट और ट्रीट यानी खोजो, टेस्ट करो और फिर इलाज करो। इसी प्रक्रिया के तहत हावड़ा निगम प्रशासन तीन स्टेप में काम करता है। पहला लोगों की थर्मल स्क्रीनिंग जिसमें थर्मल गन के द्वारा लोगों का तापमान मापा जाता है। इस प्रक्रिया के जरिए संदिग्ध लोगों को खोजा जा रहा है। दूसरे स्टेप में थर्मल गन से लोगों के शरीर का तापमान मापा जाता है। अगर किसी व्यक्ति में लक्षण अथवा उसके शरीर का तापमान ज्यादा मिलता तो उसका स्वैब टेस्ट किया जाता है। इसके अलावा तीसरा स्टेप के तहत इलाके को सैनिटाइज किया जाता है। स्वास्थ्य कर्मी हैंड सैनिटाइजर के द्वारा इलाके के गली-मुहल्ले को सैनिटाइज करते हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दांत सही होने की बजाय, महिला की मौत, 1 लाख की क्षतिपूर्ति

कोलकाताः रॉयड नर्सिंग होम में अपने दांत को ठीक करवाने के लिए अंजना साहा पहुंची थीं। एनेस्थिया के बाद ही वह अस्वस्थ हो गई थीं। आगे पढ़ें »

गर्मी बढ़ी, काेलकाता में तापमान 33 डिग्री के पार

जिलों में तपिश बढ़ी, मिदनापुर-झाड़ग्राम में 37 डिग्री मार्च-अप्रैल जैसी गर्मी का अहसास कोलकाता : बसंत उत्सव जाते ही महानगर का मौसमी मिजाज बदल गया है। गुरुवार आगे पढ़ें »

ऊपर