कुछ जुदा होगा कोलकाता मेट्रो में सफर का अंदाज

कोलकाता : शहर में मेट्रो परिसेवा फिर से शुरू करने के लिए सोमवार को राज्य सरकार और कोलकाता मेट्रो रेल प्रबंधन के बीच  अहम बैठक है। बैठक के बाद फैसला होगा कि सेवा कब से शुरू होगी। हालांकि हरी झंडी के इंतजार में खड़े कोलकाता मेट्रो रेल प्रबंधन ने अपनी तरफ से परिचालन की तैयारियां शुरू कर दी हैं। मेट्रो रेल सूत्रों से मिली जानकारी और प्रबंधन की तैयारियों को देखते हुए इतना स्पष्ट है कि कोलकाता मेट्रो का सफर अब पहले जैसा बिल्कुल नहीं होगा। कोरोना काल में कोलकाता मेट्रो में यात्रा का अंदाज एकदम जुदा होगा। खचाखच भरी मेट्रो रैक से फिलहाल आपको राहत मिलनेवाली है। इसका ये मतलब बिल्कुल नहीं कि अब आप बेतकल्लुफ हो कर यात्रा कर सकते हैं। बैठने की एकदम अलग व्यवस्था, खड़े रहने का अलग तरीका, टोकन पर ताे फिलहाल कोई फैसला नहीं हुआ है लेकिन अभी सिर्फ स्मार्ट कार्ड ही चलाये जा सकते हैं। इतना ही नहीं अब आपकी हर हरकत पर कड़ी निगरानी रखने के लिए भारी संख्या में आरपीएफ वाले तैनात होंगे। जितनी जल्दी आप इस व्यवस्था में ढल जाएंगे, मेट्रो में सफर करना आसान होगा।
टोकन नहीं सिर्फ स्मार्ट कार्ड
मेट्रो रेलवे प्रबंधन ने पहले ही स्पष्ट कर दिया है कि मुख्यमंत्री की अपील के बाद अगर मेट्रो परिचालन का फैसला होता है तो फिलहाल स्मार्ट कार्ड धारी यात्रियों को ही यात्रा की अनुमति होगी। फिलहाल टिकट काउंटर से टोकन नहीं मिलेंगे। हालांकि यह सिर्फ आरंभिक व्यवस्था है। टोकन का भविष्य क्या होगा, इस पर फिलहाल कोई प्रतिक्रिया नहीं मिली है। इसे लेकर जल्द ही मॉक ड्रील किया जायेगा।
बिना माक्स के प्रवेश नहीं
कोलकाता मेट्रो की ओर से स्पष्ट कर दिया गया है कि मेट्रो में प्रवेश करने वाले प्रत्येक यात्रियों के लिए माक्स पहनना अनिवार्य होगा। इसके साथ स्टेशन में प्रवेश करनेवाले यात्रियों के हाथ को सैनिटाइज किया जाएगा। साथ ही टोकन को भी सैनिटाइज करने की व्यवस्था है। मेट्रो रैक में यात्रियों को अब 1 सीट छोड़कर बैठना होगा। ट्रेन के अंदर खड़े रहने के लिए भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना होगा। इसके लिए ट्रेन के अंदर ही चिन्ह लगाए जाएंगे। मेट्रो रैक में भीड़ बढ़ने से रोकने के लिए एक बार में सफर करने वाले लोगों की संख्या भी सीमित की जा सकती है।
अलग अंदाज में दिखेंगे स्टेशन के गेट और टिकट काउंटर
कोलकाता मेट्रो के कोच और परिसर में सामाजिक दूरी का पालन करने के लिए रणनीति बनाई जा रही है। मेट्रो रेलवे के प्रवेश द्वार को भी सैपेरेट किया जा सकता है, ताकि यात्रियों को घुसने में आसानी हो। इसके अलावा स्टेशन पर मौजूद टिकट काउंटर को भी दूर-दूर किया जाएगा ताकि लोग सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए टिकट की लाइन में खड़े हो।
22 स्टेशनों, 24 रैकों की सफाई शुरू
मेट्रो रेलवे सूत्रों के अनुसार नॉर्थ-साउथ मेट्रो में 16 पुराने और इसी वर्ष शुरू हुए 6 नए स्टेशनों को मिला कर कुल 22 स्टेशनों की साफ-सफाई का काम जारी है। परिसर को संक्रमण मुक्त करने के साथ गेट, एस्कलेटर्स और अन्य स्थानों को लगातार सैनिटाइज किया जा रहा है। इसके साथ ईस्ट-वेस्ट मेट्रो में लगे कुछ स्टेशनों में लगे लिफ्ट की भी सफाई की जा रही है। साथ ही इसकी कार्यक्षमता की जांच जारी रही है। वहीं इस दौरान चलाने के लिए उपलब्ध 6 कोच वाले कुल 24 रैकों की सफाई का काम तेज कर दिया गया है। सभी रैक को अंदर बाहर से सैनिटाइडज किया जा रहा है। मेट्रो रेल प्रबंधन के अनुसार अगर सेवा आरंभ होती है तो दिन में कई बार मेट्रो रैक और स्टेशन परिसर को सैनिटाइज किया जाएगा।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बड़ी खबर : नेपाल ने बैन किए भारतीय न्यूज चैनल

नई दिल्ली/काठमांडु : चीन की शह पर भारत से दुश्मनी पाल रहे नेपाली प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के इशारे पर नेपाल ने बड़ा कदम उठाते आगे पढ़ें »

बिकरू कांड : गैंगस्टर विकास दुबे यूपी एसटीएफ के हवाले

उधुर, उज्जैन पुलिस ने दावा किया - विकास दुबे को हमने गिरफ्तार किया उज्जैन/लखनऊ : कानपुर के बिकरू गांव में 8 पुलिसवालों की जान लेने वाले आगे पढ़ें »

ऊपर