कश्मीर से लौटे श्रमिकों ने कहा – कायराना हमले से हम नहीं डरें, फिर जाएंगे कश्मीर

रोजी रोटी के लिए वापस तो जाना ही है
कोलकाता : कायराना हमले से हम नहीं डरते, स्थिति शांत होने के बाद हम फिर से कश्मीर जाएंगे। ये बातें कही हैं कश्मीर से लौटने वाले उन श्रमिकों ने जो कि कुलगाम में हुए आतंकी हमले के बाद वापस लौट आये हैं। श्रमिकों का कहना है कि कश्मीर की स्थिति के कारण हमारे परिवार वाले काफी चिंतित हैं जिस कारण हम अभी वापस लौट आये हैं, लेकिन स्थिति शांत हाेने के बाद हम पुनः कश्मीर में जायेंगे।
सोमवार को कश्मीर में फंसे 138 श्रमिक जम्मू – तवई एक्सप्रेस से शाम 5 बजे कोलकाता स्टेशन पर पहुंचे। कोलकाता स्टेशन पर आये श्रमिकों ने कहा कि रोजी – रोटी के लिए हम लोगों को वहां वापस जाना ही पड़ेगा। जब उनसे कहा गया कि राज्य सरकार ने उनकी मदद की बात कही है तो श्रमिकों का सवाल था कि क्या राज्य सरकार हम गरीबों की गुहार सुनेगी ? क्या हम लोगों को बंगाल में रोजगार मिलेगा ? असगर अली, अल्लाउद्दीन शेख, समीरऊल्ल रजाक, राज कुमार वर्मा कश्मीर में राज मिस्त्री का काम करते थे ​जो कि वापस लाैट आये हैं। उन लोगों ने बताया कि हम लोगों में कई लोग 10 वर्षों से तो कई 3 वर्षों से वहां काम कर रहे हैं। यूं तो कश्मीर में छिटपुट घटनाएं होती रहती हैं, लेकिन कुलगाम हत्याकाण्ड के बाद सेना के कुछ जवान हम लोगों के पास आये और आतंकी हमले में 5 मजदूरों के मारे जाने की खबर देकर सुरक्षित अपने साथ कैम्प में ले गये। मजदूरों के मरने की खबर सुनकर हम सभी काफी डर गये थे जिसके बाद हम लोगों ने घर वापस लौटने की इच्छा जाहिर की और फिर राज्य सरकार की ओर से हम लोगों को वापस लाया गया। कश्मीर में लकड़ी का काम करने वाले दीपांकर विश्वास ने कहा कि मैं बनगांव का रहने वाला हूं और वर्ष 2004 से मैं कश्मीर जा रहा हूं। हमारे साथ और भी लोग हैं जो कश्मीर में प्लाइउड का काम करते हैं, लेकिन इस तरह की घटना पहली बार घटी कि अपने राज्य के 5 श्रमिक मारे गये। इस घटना के बाद हमारे मालिक ने कहा कि आपलोग फिलहाल घर वापस लौट जाएं। उनकी और अपने परिवारवालों की बातें सुनकर अभी हम जरूर लौट आये हैं, लेकिन इस तरह के कायराना हमलों से हम डरने वाले नहीं हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

शतरंज पर नहीं पड़ा कोविड-19 का असर, अन्य खेल ठप पड़े

चेन्नई : ऐसे समय में जब कोविड-19 महामारी के चलते दुनिया भर में खेल गतिविधियां ठप्प पड़ी हैं, तो शतरंज एक ऐसा खेल है जो आगे पढ़ें »

भारत को दो विश्व कप जिताने वाले कप्तान ने कहा, पद्म श्री नहीं, सरकारी नौकरी चाहिए

नई दिल्ली : भारत को दो बार ब्लाइंड वर्ल्ड कप क्रिकेट जिताने वाले कप्तान शेखर नाइक इस समय वित्तीय संकट से जूझ रहे हैं। यही आगे पढ़ें »

ऊपर