कल से चल सकती हैं निजी बसें

निजी बसों के लिए बनी रेगुलेटरी कमेटी
सन्मार्ग संवाददाता,कोलकाता : निजी बसों के किराए को लेकर चली आ रही समस्या जल्द सुलझने की उम्मीद है। इस सिलसिले में निजी बस संगठनों ने मंगलवार को राज्य के परिवहन विभाग के अधिकारियों के साथ एक बैठक की। ज्वाइंट काउंसिल आफ बस सिंडिकेट के महासचिव तपन बनर्जी ने कहा कि बैठक सकारात्मक रही है। हम बसों को उतारने के लिए बुधवार को एक बैठक करेंगे। इसके बाद ही बसों को उतारने को लेकर के निर्णय हो सकता है। उल्लेखनीय है कि निजी बस संगठनों में भी कई विरोधाभास नजर आया है। इस कारण प्रायोगिक तौर पर कई रूटों में निजी बसों को उतारा भी गया है। हालांकि यह संख्या नाममात्र की है। यही वजह है कि यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कई बार अपील की थी कि निजी बसों को उतारने के लिए बस मालिक पहल करें। निजी बस संगठन बार-बार न्यूनतम किराया बढ़ाने की मांग कर रहे हैं। उनका कहना है कि वर्तमान समय में यात्री होंगे या नहीं इसके अलावा जो खर्च होगा उससे सभी कर्मियों के वेतन सहित अन्य कार्यों को पूरा करने में दिक्कत होगी। इस कारण परिवहन विभाग एक न्यूनतम किराया तय कर, ताकि बसों का परिचालन हो सके।
आज से 800 बसें उतारेगा परिवहन विभाग : शुभेंदु
राज्य का परिवहन विभाग बुधवार से महानगर की सड़कों पर करीब 800 सरकारी बसें उतरेगा। राज्य के विभिन्न रूटों पर यात्रियों को हो रही परेशानी को देखते हुए यह निर्णय परिवहन विभाग ने लिया है। मंत्री ने कहा कि सरकारी बसों का उपयोग बड़े पैमाने पर यात्री कर रहे हैं। राज्य के हर जिले में सरकारी बस से यात्री एक जिले से दूसरे जिले में आवागमन कर पा रहे हैं। वहीं कोलकाता में कुछ जगहों पर यात्रियों को परेशानी हुई है। ऐसे में बसों की संख्या और बढ़ाई जा रही है।साथ ही निर्णय किया गया है कि टैक्सी व ऑटो में 4-4 यात्री ड्राइवर सवार कर सकेंगे। इससे काफी हद तक समस्या के समाधान होने की उम्मीद है। हालांकि इस दौरान आवश्यक नियमों का पालन करने के लिए भी कहा गया है। इसके तहत यात्रियों को मास्क पहनना अनिवार्य है। साथ ही सैनिटाइजर भी रखना होगा। ड्राइवर को भी मास्क पहनना पड़ेगा। इसके अलावा वाहन को रोज सैनीटाइज करने के लिए कहा गया है।
तीन यात्रियों के साथ ड्राइवर परिसेवा दे सकते हैं
कोलकाता टैक्सी एसोसिएशन के सचिव तारक नाथ बारी ने कहा कि हमें परिवहन विभाग से दिशा निर्देश दिया गया है कि तीन यात्रियों के साथ ड्राइवर परिसेवा दे सकते हैं। इससे हमें काफी राहत मिली है। हम इसके लिए परिवहन विभाग का धन्यवाद देना चाहते हैं। वहीं एटक समर्थित समर्थित टैक्सी संगठन के संयोजक नवल किशोर श्रीवास्तव ने भी इस पहल पर परिवहन विभाग का आभार जताया है। हालांकि अपनी पूर्व की मांगों को लेकर अड़े हुए हैं।
बीमा के दायरे में लाने की मांग
उन्होंने फिर से टैक्सी ड्राइवरों को बीमा के दायरे में लाने की मांग की है।फेरी में आज से दो तिहाई यात्री-वहीं दूसरी तरफ फेरी सेवा में भी यात्रियों की संख्या को बुधवार से बढ़ा दिया जाएगा। सोमवार को करीब 40 हजार लोगों ने फेरी सेवा का उपयोग किया है। 40 प्रतिशत यात्रियों को ही पहले फेरी में सवार करने का निर्देश परिवहन विभाग ने दिया था।
हालांकि और यात्रियों को अब फेरी में चढ़ने की अनुमति दी गई है। इस दौरान सभी प्रकार के सुरक्षा मानकों का ध्यान रखने के लिए को कहा गया है। निजी बसें भी बढ़ी-परिवहन मंत्री ने कहा कि निजी बसों की संख्या कई जगहों पर बढ़ी हैं। पहले 7 रूट में निजी बस चल रही थी। मंगलवार को 17 रूट में महानगर में बसें चली हैं।
कुछ इस प्रकार सरकारी बसों की परिसेवा
1 जून -कुल सरकारी बसें -240
2 जून -कुल सरकारी बसें -600 फेरी 9 रूटों में चल रही है

शेयर करें

मुख्य समाचार

वेस्टइंडीज जीत के करीब, इंग्लैंड ने दूसरी पारी में 313 रन बनाए

साउथैम्पटन : इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट में वेस्टइंडीज जीत की ओर है। मैच के पांचवें दिन टी ब्रेक तक मेहमान टीम ने 4 विकेट के आगे पढ़ें »

पगबाधा का फैसला सिर्फ और सिर्फ डीआरएस से हो : तेंदुलकर

नयी दिल्ली : महान बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर ने अंपायरों के फैसलों की समीक्षा प्रणाली (डीआरएस) से अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) को ‘अंपायर्स कॉल’ को हटाने आगे पढ़ें »

ऊपर