एमबीबीएस में दाखिले के नाम पर फर्जीवाड़ा

कोलकाता : एमबीबीएस में दाखिले के नाम पर एक इंटरस्टेट गैंग का पर्दाफाश विधाननगर साइबर क्राइम थाने की पुलिस ने किया। इस मामले में संदीप राज जायसवाल (26) नामक एक युवक को गुरुवार रात गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के मुताबिक यह एक बड़ा गैंग है जो एक इंस्टिट्यूशन के नाम पर विज्ञापन देता था। उस विज्ञापन के माध्यम से एमबीबीएस में दाखिले दिलाने के लिए लोगों को झांसा दिया जाता था और उनसे लाखों रुपये ऐंठा जाता था। इस तरह से इस गिरोह ने कई सारे लोगों को अपना शिकार बनाया है। इनके जाल में फंसे एक परिवार ने विधाननगर साइबर क्राइम थाने में शिकायत दर्ज की जिसके आधार पर पुलिस ने जांच में उतरकर संदीप जायसवाल को गिरफ्तार किया।
विज्ञापन देखकर जाल में फंसा परिवार : साल्टलेक के एए ब्लॉक में रहने वाली एक महिला कावेरी सिन्हा ने एक दैनिक अखबार में उक्त एडुकेशन इंस्टिट्यूशन का विज्ञापन देखा और अपने बेटे के दाखिले के लिए उनसे संपर्क किया। इंस्टिट्यूशन की ओर से कावेरी को आश्वसान दिया गया कि वे लोग डोनर्स कोटा के माध्यम से जादवपुर के एक मेडिकल कॉलेज में उनके बेटे का दाखिला करा देंगे। इसके लिए उन्होंने कावेरी से काफी मोटी रकम ली। कुछ दिनों बाद संस्था ने बता दिया कि जादवपुर के कॉलेज में दाखिला नहीं हो पायेगा लेकिन वे लखनऊ के एक मेडिकल कॉलेज में अवश्य ही उनके बेटे की सीट निश्चित कर देंगे। इसके लिए भी उन्होंने लाखों रुपये लिए और कावेरी के बेटे को भी 2 महीनों तक लखनऊ में रोककर रखा। कुल मिलाकर उन्होंने कावेरी देवी से कुल 35 लाख रुपये ऐंठे लेकिन आखिरकार ना दाखिला मिला और ना ही रुपये वापस मिले। संदीप जायसवाल (26) मूल रूप से बिहार के मुजफ्फरपुर का रहने वाला है और बागुईआटी थाना अंतर्गत चिनार पार्क मे एक किराए के फ्लैट में रहता था। उसने बीकॉम तक पढ़ाई की है। पढ़ाई पूरी करने के बाद संदीप छोटी-छोटी नौकरियां करता था। किस तरह वह इस गिरोह में लिप्त हुआ यह जांच का विषय है लेकिन पुलिस सूत्रों के मुताबिक लोगों को अपने विश्वास में लाने के लिए वह जब भी उनसे मिलने के लिए आता था तो बड़ी गाड़ियों में। बताया जा रहा है कि संदीप ही इस गिरोह का मास्टरमाइंड है लेकिन जिस इंस्टिट्यूशन की ओर से वह लोगों से मिलता था उसका मालिक कोई और है। पुलिस ने बताया कि इस मामले में कई सारे लोग जुड़े हैं और इस गैंग के तार देश के कई राज्यों में फैले हैं जिन तक पहुंचने के लिए आज ही विधाननगर पुलिस की टीम विभिन्न राज्यों में रवाना होगी। यह गैंग विभ‌िन्न डेंटल कॉलजों और एमबीबीएस कॉलेज में दाख‌िला करा देने का दम भरता था।

करोड़ों की धोखाधड़ी करने वाले इंटरस्टेट गैंग का पर्दाफाश

शेयर करें

मुख्य समाचार

सीएए और एनआरसी को लेकर मेयर ने बोला हमला

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : मेयर और मंत्री फिरहाद हकीम ने सीएए और एनआरसी को लेकर एक बार फिर केंद्र सरकार पर हमला बोला। रविवार को रक्तदान आगे पढ़ें »

ईस्ट वेस्ट मेट्रोः इस महीने शुरु होने की उम्मीदें बढ़ीं

नए जीएम ने मेट्रो परियोजना का किया निरीक्षण सन्मार्ग संवाददाता कोलकाताः साल्टलेक स्टेडियम से साल्टलेक सेक्टर-5 तक मेट्रो परियोजना के शुरू होने की उम्मीदें एक बार फिर आगे पढ़ें »

ऊपर