उच्च माध्यमिक की बाकी 3 परीक्षाएं रद्द, 31 जुलाई तक आएंगे परिणाम : शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी

कोलकाता : उच्च माध्यमिक (एचएस) की होने वाली तीन परीक्षाएं रद्द कर दी गयी हैं। 31 जुलाई के भीतर रिजल्ट आ जाएगा। शिक्षा मंत्री पार्थ चटर्जी ने यह जानकारी दी। ये तीन परीक्षाएं 2,6 और 8 जुलाई को होने वाली थीं। अन्य बोर्ड की तरह और सुप्रीम कोर्ट के निर्देश तथा एचएस मूल्यांकन कमेटी के प्रस्ताव पर शिक्षा विभाग ने परीक्षाएं रद्द करने का फैसला लिया। पार्थ चटर्जी ने कहा कि उन विषयों का मूल्यांकन कैसे किया जाएगा, इसे लेकर एचएस की एक्सपर्ट कमेटी नियम तैयार करेगी। उसे बाद में विज्ञाप्ति के माध्यम से जानकारी दी जाएगी। उल्लेखनीय है कि कोरोना और लॉकडाउन के कारण तीनों परीक्षाएं स्थगित हुई थीं। जुलाई के प्रथम सप्ताह में इनका होना तय किया गया था। पृष्ठ 2 भी देखेंमूल्यांकन कैसे, अभी भी स्पष्ट नहीं : बाकी परीक्षा का मूल्यांकन कैसे किया जाएगा यह अभी भी स्पष्ट नहीं है। उच्च शिक्षा बोर्ड की विशेषज्ञ समिति द्वारा निर्णय लिया जा रहा है। शिक्षा मंत्री ने कहा कि कुछ दिनों में स्पष्ट दिशानिर्देश जारी होगा। हालांकि, अगर किसी को वैकल्पिक विधि पसंद नहीं आती है, यानी कोई भी छात्र – छात्राएं अगर मूल्यांकन से संतुष्ट नहीं हैं, उसे लगता है कि उसका रिजल्ट इस मूल्यांकन से और बेहतर हो सकता है तो वह स्थिति सामान्य होने पर परीक्षा दे सकता है, क्योंकि छात्रों के स्वास्थ्य और सुरक्षा हमारी पहली प्राथमिकता है। इसकी भी रूपरेखा एक्सपर्ट कमेटी तैयार करेगी। माध्यमिक की रिजल्ट कब तक? माध्यमिक का रिजल्ट कब तक आएगा? इसके जवाब में पार्थ चटर्जी ने कहा, रिजल्ट तो दस दिनों के भीतर ही प्रकाशित किया जा सकता है, लेकिन इससे फायदा क्या होगा। वहीं शिक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि कॉलेजों और विश्वविद्यालयों की अंतिम वर्ष की परीक्षाओं पर यूजीसी का निर्णय अंतिम है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

दो बार के ओलंपिक चैम्पियन लिन डैन ने अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन को अलविदा कहा

बीजिंग : बैडमिंटन के इतिहास में महानतम खिलाड़ियों में शुमार दो बार के ओलंपिक चैम्पियन चीन के लिन डैन ने शनिवार को अंतरराष्ट्रीय बैडमिंटन को आगे पढ़ें »

प्रधानमंत्री ने युवाओं की दी देशी ऐप बनाने की चुनौती, मिलेगा इतने लाख रुपये इनाम

नयी दिल्ली : चीन के साथ सीमा पर चल रहे तनाव और चीन की 59 मोबाइल ऐप पर प्रतिबंध लगाये जाने के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र आगे पढ़ें »

ऊपर