इन 3 सख्त नियमों की नजरंदाजी ने अनलॉक को किया शटडाउन

सोनू ओझा, कोलकाता : कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए राज्य में लॉकडाउन वापस लौट आया है। अनलॉक में लगे इस शटडाउन के पीछे एकमात्र कारण लापरवाही है जो कहीं न कहीं पुलिस प्रशासन की तरफ से की गयी, जबकि आम जनता का बेपरवाह रवैया इसके पीछे पूरी तरह से जिम्मेदार है। कोरोना के संक्रमण को रोकने के लिए ही राज्य सरकार की तरफ से लॉकडाउन के दौरान 3 कड़े नियमों को लागू किया गया था, जो कहने को तो अब तक चल रहा है मगर उसे माना कितना जा रहा है वह घर के बाहर की तस्वीर देखकर अंदाजा जा सकता है। लॉकडाउन हो न हो लोग घर से बाहर निकल रहे हैं, कोई इमरजेंसी में तो कोई खुली हवा में सांस लेने के लिए, कुछ लोग बोरियत दूर करने के लिए घरों से बाहर टलहने भी निकल रहे हैं। सब कुछ ठीक है मगर इस बीच नियमों की अनदेखी पूरी तरह से अपने घर पर कोरोना को दावत देना है।
लोगों ने कहा : मौत तो किस्मत में है, अब कितना नियम माने
इन नियमों को लेकर कुछ लोगों में धारणा बन गयी है कि किस्मत में जो होता है वह होगा ही। मौत भी उसी की एक कड़ी है, जब आनी है आ ही जाएगी। तिरपाल पट्टी में दुकान चला रहे एक दुकानदार ने कहा कि कमाई कुछ नहीं है। मास्क खरीदने के लिए रुपया कहां से लाएं। मरना होगा तो मर ही जाएंगे। इसी तरह सरकारी बस के एक कंडक्टर ने कहा कि क्या मास्क और क्या सोशल डिस्टेंस, जिस भीड़ में हम रह रहे हैं वहां नियमों की धज्जियां उड़ना तो तय है। कुछ लोग ऐसे भी है कंधे पर गमछा रखे घूमते हैं सिर्फ इसलिए कि पुलिस की न​जर पड़ते ही गमछा से मुंह बांध लेंगे।
नियम नहीं पूर्ण लॉकडाउन ही तोड़ सकता है कोरोना की चेन
इस बारे में आम जनता ही नहीं सरकार के कई आला अधिकारी भी एकमत हैं। ज्यादातर लोगों का कहना है कि जिस रफ्तार से संक्रमण बढ़ रहा है उसमें महज कुछ चुनिंदा जगह को लॉक करने से कुछ होने वाला नहीं है। इसका एकमात्र उपाय टोटल लॉकडाउन है।
सिर्फ 3 प्रतिशत लोग ही मानते हैं नियम
इस बारे में मंत्री फिरहाद हकीम ने कहा ​कि नियम लोगों को खुद मानना होता है। यह जबरन उन पर थोपा नहीं जा सकता। अभी सिर्फ 3 प्रतिशत लोग ही सही मायनों में इन नियमों को मान रहे हैं बाकी सभी अपने मन-मुताबिक नियम बना रहे हैं। नियम तोड़ने वालों को पुलिस देख रही है, समझा रही है मगर अब यह आम बात हो गयी है। कुछ जगहों पर पुलिस परेशान है तो कुछ जगहों पर एक तरह से खामोश होकर नियम तोड़ने वालों को देख रही है और बता रही है कि कितनी सख्ती बरती जाए जब लोग खुद ही कोरोना से पंगा लेना चाह रहे हैं।

शेयर करें

मुख्य समाचार

बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के 2752 नये आये मामले

कोलकाता : वेस्ट बंगाल कोविड-19 हेल्थ बुलेटिन के अनुसार पश्चिम बंगाल में कोरोना वायरस संक्रमण के पिछले 24 घंटे में 2752 नये मामले आये है आगे पढ़ें »

राममंदिर के शिलान्यास के अवसर पर अपने घरों में दीपावाली मनाएं : रावत

देहरादून : उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने पांच अगस्त को अयोध्या में राममंदिर निर्माण हेतु भूमिपूजन के अवसर पर प्रदेश की जनता से आगे पढ़ें »

ऊपर