आश्वासनों के ‘पुल’ पर चढ़ाया जा रहा है मजदूरों को

रेवड़ी खा रहे हैं दलाल किस्म के नेता
समस्या सुलझ जायेगी मगर समय आने पर : टीजेटीडब्ल्यूएफ

निधी गुप्ता

बैरकपुर : बैरकपुर शिल्पांचल की एलांयस जूट मिल के साथ ही लगभग एक महीने से श्यामनगर की वेवर्ली जूट मिल व रिलांयस जूट मिल में भी कार्यस्थगन की अवस्था है। मिलों को खुलवाने के लिए बैठकें तो हो रही हैं मगर नतीजा कुछ नहीं निकल रहा है। इस स्थिति में खुद को मजदूरों का जनप्रतिनिधि बताने वाले तथाकथित नेता ही उन्हें आश्वासन के पुल पर चढ़ा रहे हैं। आरोप है कि वे जहां मजदूरों को भड़काने से पीछे नहीं हटते वहीं मिल के बंद होते ही मजदूरों की ओर से प्रबंधन पर दबाव डालना भी नहीं भूलते। मिल खुलवाने के नाम पर वे प्रबंधन के सामने अपनी ही अलग मांग रख देते हैं। वहीं प्रशासन की ओर से जब बैठक बुलायी जाती है तो रेवड़ी खाने वाले प्रतिनिधि का रूप सामने आ जाता है। आरोप है कि समस्याओं को सुलझाने के बयाज इन नेताओं के अड़ियल रवैया अपनाने से भी कई बार बात बिगड़ जाती है और मिल खुलने पर निर्णय नहीं हो पाता। जहां ऐसे नेताओं के कारण कई मिलों में समस्या बनी रहती है वहीं कई बार जूट मिल प्रबंधन भी मजदूरों के हित के बदले सिर्फ व्यक्तिगत स्वार्थ के कारण बैठकों को टाल देते हैं। इन दोनों ही दिशाओं में मिल के मजदूरों का ही शोषण हो रहा है। बैरकपुर शिल्पांचल की जिन जूट मिलों में कार्यस्थगन है उनमें से एक जूट मिल के प्रबंधन से उनकी समस्याओं को लेकर पूछे जाने पर उन्होंने कोई जवाब नहीं दिया तो दूसरे ने कहा कि समस्याओं को मिटाने की कोशिश की जा रही है, यहां एक नहीं कई समस्याएं हैं। बैरकपुर शिल्पांचल की बंद जूट मिलों की बैठकों के सफल नहीं हो पाने के पीछे एक तीसरा मामला भी सामने आ रहा है। तृणमूल जूट एंड टेक्सटाइल्स वकर्स फेडरेशन (टीजेटीडब्ल्यूएफ) के सचिव संजय राय ने कहा कि असलियत यह है कि अंचल की अलग-अलग जूट मिलों में अलग-अलग समस्याएं हैं और इन समस्याओं को समय के अनुसार इस्तेमाल किया जाता है। उन्होंने आरोप लगाया कि जून में मिलों से रिटायर्ड कर्मियों की ग्रेच्युटी भुगतान की मांग उठती है जिसको लेकर श्रमिकों का क्षोभ सामने आता है, इस परिस्थिति से बचने के लिए भी मिल में पहले ही कार्यस्थगन कर दिया जाता है। इस समय के निकलते ही दोनों ही पक्षों में समस्याएं खुद ब खुद सुलझ जाती हैं। उन्होंने कहा कि असल में मिलों में चल रही समस्याओं को लेकर प्रशासन को एक अलग बोर्ड गठन कर इस पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।
रिलांयस जूट​ मिल खोलने को लेकर बैठक रही असफल
बैरकपुर : भाटपाड़ा की रिलायंस जूट​ मिल में 30 नंवबर से कार्यस्थगन है जिसको खुलवाने की दिशा में बुधवार की शाम को बैरकपुर के ज्वाइंट लेबर कमिश्नर कार्यालय में एक बैठक हुई हालांकि यह बैठक बेनतीजा निकली। डीएलसी सुदीप्त सामंत ने बताया कि प्रोडक्शन बढ़ाने की मांग प्रबंधन की ओर से की जा रही है और इसको लेकर लिखित स्वीकृति की मांग की गयी हालांकि श्रमिक यूनियन प्रतिनिधियों ने कहा कि मिल के खुलने व कच्चा माल की गुणवत्ता को देखकर ही वे यह बात कह पायेंगे। दोनों पक्षों में इस पर सहमति नहीं बन पायी है। उन्होंने कहा कि पुनः बैठक कर मामले को सुलझाने की कोशिश की जायेगी।

शेयर करें

मुख्य समाचार

महानगर में आत्महत्या रोकने के लिए पुलिस शुरू करेगी‘हेल्पलाइन’

फोन ही मनोवैज्ञानिक करेंगे लोगों की काउंसिलिंग बढ़ती आत्महत्या की घटनाओं को देखते हुए लिया गया फैसला सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : किसी भी मनुष्य के आगे पढ़ें »

बहूबाजार में अधेड़ पर जानलेवा हमला कर लूटे रुपये

सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : महानगर में अधेड़ पर धारदार हथियार से हमला कर रुपये लूटने के आरोप में पुलिस ने एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। आगे पढ़ें »

ऊपर