आरोप : कट मनी वापस मांगने पर महिला से सामूहिक दुष्कर्म

जलपाईगुड़ीः कट मनी वापस मांगने पर एक महिला से सामूहिक दुष्कर्म का आरोप पंचायत सदस्य और उसके तीन समर्थकों पर है। जलपाईगुड़ी के मयनागुड़ी ब्लाॅक के साप्टिबाड़ी दो नंबर पंचायत क्षेत्र में यह घटना घटी। घटना के बाद से ही अभियुक्त पंचायत सदस्य और उनके तीन साथी फरार हैं। मंगलवार को मयनागुड़ी थाने में पंचायत सदस्य मो. बुलबुल आलम सहित उनके तीन साथी जाहिदुल इस्लाम, जयनाल आबेदिन और आफिदुल हक के खिलाफ गृहवधू ने प्राथमिकी दर्ज करायी। आरोप है कि गीतांजलि योजना के तहत घर दिलाने के बहाने पंचायत सदस्य मो. बुलबुल ने गृहवधू से 7000 रुपये की कट मनी ली थी लेकिन काफी समय बाद भी उसे घर उपलब्ध नहीं करा पाये। घर नहीं मिलने से परेशान गृहवधू लगातार उसके घर जाकर घर दिलाने अन्यथा रुपये वापस करने की मांग कर रही थी। गृहवधू ने आरोप लगाया कि गत 14 अगस्त को जब उसने पंचायत सदस्य से रुपये की मांग की तो उसे देर शाम एक स्थान पर बुलाया गया। वह जब वहां पहुंची तो वहां पहले से मौजूद बुलबुल आलम सहित उसके 3 सा‌थी उसे जबरन पकड़ कर एक कमरे में ले गये और उसके साथ मारपीट कर सामूहिक दुष्कर्म किया। उसने आरोप लगाया कि दुष्कर्म के दौरान भी उसकी पिटायी की गयी। घटना के बाद बुलबुल आलम ने उसे धमकाते हुए कहा कि अगर किसी से भी इसका जिक्र किया तो जान से मार देंगे। भयवश गृहवधू चुप रही लेकिन इस बात की जानकारी सोमवार को उसके परिजनों को हुई। मंगलवार को इसकी शिकायत थाने में दर्ज करायी गयी। इसके बाद से ही वहां हंगामा मच गया। भाजपा किसान मोर्चा के नेता सुरेश राय ने बताया कि घटना की जानकारी मिलते ही हमने पुलिस से घटना पर कार्रवाई की मांग की। जलपाईगुड़ी के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक थेंडुप शेरपा ने बताया कि थाने में शिकायत दर्ज होते ही अभियुक्त इलाके से भाग गये हैं। पीड़ित गृहवधू की मेडिकल जांच करायी गयी है। अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए लगातार छापेमारी की जा रही है। पीड़िता गृहवधू ने हमले की आशंका जाहिर की जिसके आधार पर उसे उचित सुरक्षा भी दी जा रही है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

kashmir

जम्मू-कश्मीर : घाटी में अब हालात सामान्य, हिरासत में लिए गए 3100 लोग रिहा

नई दिल्ली : जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त होने के बाद हिंसा होने की काफी संभावनाएं थी, लेकिन सुरक्षाबलों के उचित कदम उठाए जाने से आगे पढ़ें »

जेयू मामले में प्रशासन पूरी तरह से फेल था – राज्यपाल

वीसी ने अपने कर्तव्य नहीं निभाये ‘जो भी किया संविधान के दायरे में किया’ जाने से पहले सीएम से कई बार हुई थी बात सन्मार्ग संवाददाता कोलकाता : जादवपुर आगे पढ़ें »

ऊपर