असली ‘टुकड़े – टुकड़े गैंग’ है सत्ताधारी पार्टी : थरूर

सन्मार्ग संवाददाता
कोलकाता : कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने बुधवार को कहा कि विकास का कोई एजेंडा नहीं होने के चलते भारतीय जनता पार्टी अब एक ‘हिंदू राष्ट्र’ बनाना चाहती है। वह कोलकाता में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने दावा किया कि असली ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ सत्ताधारी पार्टी है, जो देश को टुकड़ों-टुकड़ों में बांट रही है। थरूर ने दावा किया, ‘सत्ताधारी पार्टी के एजेंडे में विकास नहीं है, इसलिए ये हिंदू राष्ट्र बनाने के अपने एजेंडे को पूरी तरह लागू कर रही है।’ कांग्रेस नेता ने आरोप लगाया कि मौजूदा केंद्र सरकार के पास विकास की मानसिकता ही नहीं है। उन्होंने कहा, ‘बांटो और राज करो की तर्ज पर पार्टी हमें उसी तरह बांट रही है जैसा कि ब्रिटिश राज में किया गया। उन्होंने कहा, ‘क्या राष्ट्रीयता का आधार धर्म होना चाहिए ? महात्मा गांधी ने एक धर्मनिरपेक्ष भारत की बात की, पाकिस्तान की तरह नहीं जो इस्लामिक देश बन गया।’ थरूर ने कहा, ‘हमारा संविधान सभी के लिए गरिमा और सम्मान को दर्शाता है। संविधान इसे दर्शाता है और साथ ही उसने धर्म आधारित नागरिकता के विचार को अनिवार्य रूप से खारिज किया है।’ उन्होंने कहा कि भारत में पहली बार नागरिकता तय करने के लिए धर्म को आधार माना जा रहा है और एक धर्म, इस्लाम को इससे बाहर रखा जा रहा है। शशि थरूर ने कहा, ‘हम भारत के नागरिक हैं, यह साबित करने की जिम्मेदारी हमारे ही ऊपर होगी।’ उन्होंने कहा कि भाजपा नेता हमेशा स्वामी विवेकानंद के शिकागो भाषण का जिक्र करते हैं जिसमें सभी धर्मों के लोगों को बहनों और भाइयों कहकर संबोधित किया गया था, लेकिन भाजपा ने इसे छह धर्मों और तीन देशों तक सीमित कर दिया है। उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा ने तुगलकी अंदाज में नोटबंदी लागू की और अर्थव्यवस्था को बर्बाद कर दिया। उन्होंने कहा कि देश में भारी बेरोजगारी है, किसान आत्महत्या कर रहे हैं और महंगाई बढ़ रही है। यहां तक कि निवेशकों का विश्वास भी टूट गया है।

शेयर करें

मुख्य समाचार

terrorist

कश्‍मीर में आतंकवाद बढ़ाने के लिए पाक को मिला इस देश का साथ

नई दिल्ली: तुर्की अब खुलकर कश्मीर में आतंकवाद को बढ़ाने के लिए पाकिस्तान की मदद कर रहा है। बता दें कि चीन के बाद अब आगे पढ़ें »

अब पति को हर महीने 2000 रुपये का गुजारा भत्ता देगी पत्‍नी

मुजफ्फरनगर: आपने अब तक अमूमन कोर्ट की ओर से यही आदेश पढ़ा या सुना होगा कि कोर्ट ने पति को आदेश दिया है कि वह आगे पढ़ें »

ऊपर